पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आंकड़ों में दफन कोरोना:सीएम ने कहा- आरटीपीसीआर टेस्ट बढ़ाएं, आज भी सिर्फ 269 सैंपल ही लिए

मुरैना24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 28 दिन में रोज औसतन 832 सैंपल, संक्रमण दर कम दिखाने रोज 528 रेपिड टेस्ट, फिर भी 2127 मरीज मिले

अप्रैल-मई महीने में कोरोना ब्लास्ट होने के बाद जिले के प्रभारी सचिव मलय श्रीवास्तव, सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग बढ़ाने व सैंपलिंग बढ़ाने के लिए तीन बार निर्देश दिए लेकिन जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग ने सैंपलिंग नहीं बढ़ाई। बड़ी संख्या में मरीज मिलने पर संक्रमण दर 11.26 फीसदी पर पहुंच गई तो अफसरों ने सैंपल तो बढ़ाए लेकिन भरोसेमंद आरटी-पीसीआर के के मुकाबले रैपिड टेस्ट दोगुने कर दिए। आंकड़ों पर गौर करें तो मई के 28 दिनों 23 हजार 232 सैंपल कराए गए।

इनमें से आरटी-पीसीआर से सिर्फ 8 हजार 436 टेस्ट कराए जिसमें 1335 मरीज मिले और एंटीजन से 14 हजार 796 टेस्ट कराए, जिसमें 792 संक्रमित मिले। इसका असर यह हुआ कि सैंपल संख्या भी बढ़ गई और संक्रमितों की संख्या आरटी-पीसीआर टेस्ट के मुकाबले आधी रही। संक्रमण दर 6.21 फीसदी पर आ गई। अफसरों की इस आंकड़ेबाजी पर 28 मई को तब सवाल खड़ा हो गया जब सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 700 एंटीजन टेस्ट में एक भी मरीज संक्रमित नहीं मिला, यह कैसे संभव है।

आरटी-पीसीआर की संक्रमण दर 15.82%और एंटीजन की 5.35%: मई के 28 दिन में एंटीजन टेस्ट के मुकाबले आरटी-पीसीआर की संक्रमण दर तीन गुना अधिक रही। 28 दिन में आरटी-पीसीआर के 8 हजार 436 सैंपल में 1335 पॉजिटिव मिले यानी हर 100 सैंपल में 15 संक्रमित मिले। एंटीजन के 14 हजार 796 सैंपल में सिर्फ 792 मरीज मिले, यानि हर 100 सैंपल में 5 मरीज ही मिले।

बैठक में विधायक बोले- गांवों में सिर्फ सर्दी-खांसी-जुकाम के मरीज हैं, केंद्रीय मंत्री ने कहा- तो फिर संक्रमित कहां से निकल रहे हैं
कोरोना कर्फ्यू हटाने को लेकर शनिवार को क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक हुई। प्रभारी मंत्री भारत सिंह कुशवाह व केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की मौजूदगी में हुइ बैठक में जौरा विधायक सूबेदार सिंह रजौधा ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना नहीं है। सिर्फ सर्दी-खांसी, जुकाम के मरीज हैं। इस पर केंद्रीय मंत्री तोमर ने उनसे कहा कि फिर कोरोना संक्रमित कहां से निकल रहे हैं।

बैठक में मौजूद भाजपा जिलाध्यक्ष योगेशपाल गुप्ता ने कहा कि अभी मरीज मिल रहे हैं, इसलिए कार्फ्यू 4 जून तक बढ़ाया जाए। इस पर सहमति बनी और तय किया गया कि अभी सख्ती बनाए रखें। बैठक में चंबल कमिश्नर आशीष सक्सेना, आईजी मनोज शर्मा, कलेक्टर बी. कार्तिकेयन, एसपी ललित शाक्यवार सहित व्यापार मंडल, बाजार एसेसिएशन के पदाधिकारी भी मौजूद रहे।

वेंटिलेटर हैं तो उन्हें चालू क्यों नहीं कर रहे, तीसरी लहर और खतरनाक होगी, कैसे लड़ेंगे
क्राइिसस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक में भाजपा नेता हरिओम शर्मा ने वेंटिलेटर का मुद्दा उठाते हुए कहा कि जब जिला अस्पताल में 7 वेंटिलेटर हैं तो उन्हें चालू क्यों नहीं कर रहे। इस पर केंद्रीय मंत्री ने सीएमएचओ की ओर इशारा किया। सीएमएचओ ने कहा कि हमारे पास वेंटिलेटर चलाने के लिए स्टाफ नहीं है। इस पर केंद्रीय मंत्री तोमर ने श्री शर्मा को आश्वस्त करते हुए कहा कि हम वेंटिलेटर चालू कराने के लिए प्रयासरत हैं। यहां बता दें कि अप्रैल महीने में जब कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ने लगा था तब खुद केंद्रीय मंत्री ने कहा कि स्टाफ ट्रेनिंग लेकर आ जाएगा और जल्द वेंटिलेटर शुरू कराएंगे लेकिन हुआ कुछ नहीं।

28 दिन में आरटी-पीसीआर व एंटीजन से मिले संक्रमित।
28 दिन में आरटी-पीसीआर व एंटीजन से मिले संक्रमित।
खबरें और भी हैं...