पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Morena
  • Despite The Passage Of Four Days After Chambal Went To Catch Sand At Indra Sarovar Pond, The Station Police Station Did Not Register An FIR.

नहीं रुक रही पुलिस की मनमानी:इन्द्रा सरोवर तालाब पर चंबल का रेत पकड़े चार दिन बीत गए, बावजूद, स्टेशन थाना पुलिस ने नहीं दर्ज की FIR

मुरैना23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
इन्द्रा सरोवर तालाब से रेत भरव - Dainik Bhaskar
इन्द्रा सरोवर तालाब से रेत भरव
  • अपनी कार्रप्रणाली को लेकर पहले से चर्चा में रहे हैं स्टेशन थाना प्रभारी

वन विभाग की SDO श्रद्धा पांढ़रे ने इन्द्रा सरोवर तालाब की चार दीवारी के निर्माण में चंबल के अवैध रेत का उपयोग होता पाया था। 9 जुलाई को SDO ने रेत का सेंपल लेने की कार्रवाई की थी। उसी दिन स्टेशन रोड थाना पर SDO ने इस अवैध काम के लिए ठेकेदार सहित चार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए आवेदन दिया था। लेकिन आवेदन देने के पूरे चार दिन बीतने के बावजूद स्टेशन थाना पुलिस ने अभी तक आरोपियों के खिलाफ FIR दर्ज नहीं की है। यह घटना उसी दिन की है जिस दिन SDO ने महिला थाने के निर्माण में चंबल के अवैध रेत का उपयोग होते पाया था। उसके तुरंत बाद SDO दल-बल के साथ बढ़ोखर, हनुमान मंदिर के पीछे बन रहे इन्द्रा सरोवर तालाब के निर्माण स्थल पर पहुंची थीं। वहां उन्होंने देखा कि चंबल का रेत पड़ा हुआ है। उस रेत से तालाब की चारदीवारी बनाई जा रही थी। वहां मौजूद रेत की मात्रा 26 घनमीटर थी। उसका सेंपल लेने के बाद SDO ने स्टेशन थाना प्रभारी आशीष राजपूत को चंबल की रेत की चोरी व उसके अवैध उपयोग को लेकर आवेदन दिया था। आवेदन में ठेकेदार सहित चार लोगों को आरोपी बनाया गया था।

9 जुलाई को दिया गया आवेदन
9 जुलाई को दिया गया आवेदन

इन लोगों को बनाया आरोपी
इन्द्रा सरोवर तालाब के निर्माण में अवैध चंबल के रेत के उपयोग को लेकर जिन चार लोगों के नाम FIR दर्ज करने को कहा गया था। उनमें ठेकेदार मनीष बोहरे, निवासी मुरैना, दिनेश निगम, निवासी, ग्राम शीतलपुर,विजय श्रीवास्तव, निवासी बढ़ोखर तथा अनिल शिवहरे, निवासी बड़ोखर तथा संतोष दण्डौतिया, निवासी बड़ोखर के नाम शामिल हैं। SDO पांढ़रे ने इनके खिलाफ उसी दिन थाने में FIR दर्ज करने का आवेदन दिया गया था।

10 जलाई को दिया दूसरा आवेदन
10 जलाई को दिया दूसरा आवेदन

दो दिन बार चोरी के डर से उठा लिया था रेत
जब एसडीओ को पता लगा कि महिला थाने के सामने मौजूद रेत चोरी कर लिया गया है। तो, SDO पांढ़रे ने सोचा कि कहीं इन्द्रा सरोवर तालाब पर मौजूद रेत में कीं चोरी न कर लिया जाए। यही सोचकर उन्होंने 11 जुलाई को तालाब पर पड़ा रेत व मिक्सर मशीन को उठा लिया था। 26 घनमीटर रेत में से अधिकांश रेत उठा लिया गया था। बाकी, जो रेत बचा था, उसे अपने सामने ही मिट्‌टी में मिलवा दिया था।
थाना प्रभारी की दलील
यह सही हैै कि SDO, मैडम ने चार लोगों के खिलाफ FIR दर्ज करने के लिए आवेदन दिया था। उन्होंने आवेदन में यह नहीं लिखा था कि चोरों आरोपियों के खिलाफ हमें क्या कार्रवाई करना है, सो हमने अभी तक FIR दर्ज नहीं की।
आशीष राजपूत, थाना प्रभारी, स्टेशन रोड, थाना
झूठ बोल रहे हैं थाना प्रभारी

थाना प्रभारी पूरी तरह से झूठ बोल रहे हैं। हमने उनसे आवेदन में कहा था कि उपरोक्त चारों लोग चंबल का रेत चोरी करने के लिए जिम्मेदार हैं। हमने उनको दो पत्र दस्तावेज के साथ भेजे हैं। एक पत्र 9 जुलाई को दिया था तथा दूसरा 10 जुलाई को दिया था। लिहाजा उनके खिलाफ FIR दर्ज की जाए। वह मामले को टालने की कोशिश कर रहे हैं।
श्रद्धा पांढरे, SDO वन विभाग

मैने अभी पत्र देखा नहीं है। पत्र देखने के बाद पता लगेगा कि थाना प्रभारी सही बोल रहे हैं या SDO पांढरे।
रायसिंह, नरवरिया, एडिशनल SP मुरैना

खबरें और भी हैं...