पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वाटर प्रोजेक्ट:चंबल से पानी की राह आसान; 24 महीने में लाया जाएगा 22 किमी दूर से नीर

मुरैना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जैतपुर में 140 एमएलडी का इंटकवेल अतरसुमा में 65 एमएलडी का वाटर ट्रीटमेंट प्लांट बनेगा

चंबल से पानी लाने की राह आसान हो गई है। शहरी विकास कंपनी ने इस काम का जिम्मा ग्वालियर की सारथी कंस्ट्रक्शन कंपनी को सौपा है। 208 करोड़ रुपए की लागत से चंबल वाटर प्रोजेक्ट के तहत इंटेकवैल, वाटर ट्रीटमेंट प्लांट, ओवरहैड टैंक समेत 502 किमी लंबाई की पाइप लाइन बिछाने का काम 24 महीने में पूरा करना होगा।

1989 में चंबल वाटर प्रोजेक्ट का काम शुरू हुआ था। 89 करोड़ रुपए का उस समय के प्रोजेक्ट की लागत बढ़कर अब 226 करोड़ रुपए तक जा पहुंची है। इस प्रोजेक्ट के लिए तीसरी बार बुलाए गए टेंडरों में 10 कंपनियों ने टेंडर डाले लेकिन ग्वालियर की सारथी कंस्ट्रक्शन कंपनी के रेट 8% कम होने के कारण शहरी विकास कंपनी ने सारथी को चंबल से पानी लाने का दायित्व सौंप दिया।

इस कंपनी को 208 करोड़ रुपए में चंबल से मुरैना तक 23 किमी की लंबाई में पानी लाकर देना होगा। चंबल से पानी लाने की योजना के तहत ठेकेदार को 3 महीने की समयसीमा में इस प्रोजेक्ट की ड्राइंट-डिजायन बनाकर शहरी विकास कंपनी के समक्ष पेश करना हाेगी। एक महीने का समय ड्राइंग-डिजायन के अनुमोदन में लगेगा। इस प्रकार 4 महीने बाद यानि नवंबर में इस अहम योजना पर काम शुरू हो सकेगा।

पानी के 11 ओवरहैड टैंक बनेंगे: शहर की 2.32 लाख आबादी को पानी प्रदाय करने के लिए सिटी में 11 नए ओवरहैड टैंक बनाए जाएंगे। कुछ ओवरहैड टैंक पुराने स्थानों पर बनाए जाएंगे और कुछ टंकियां नए स्थानों पर बनाने के लिए प्रस्तावित की गई हैं।

जैतपुरा में 140 एमएलडी क्षमता का इंटकवेल बनेगा

  • मुरैना शहर की 2.32 लाख आबादी को पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए चंबल वाटर प्रोजेक्ट के तहत जैतपुर में 140 एमएलडी क्षमता का इंटकवेल बनाया जाएगा। जैतपुर में चंबल की गहराई अधिक होने के कारण उस स्थान को इंटकवेल बनाने के लिए चयनित किया गया है।
  • अतरसुमा में इंटकवेल के पानी काे साफ करने के लिए डेढ़ हैक्टेयर जमीन पर 65 एमएलडी क्षमता का वाटर ट्रीटमेंट प्लांट बनाया जाएगा। जलशोधन संयंत्र की स्थापना अतरसुमा की न्यू टाउनशिप के पास की जाएगी। इससे प्रधानमंत्री आवासों के लिए भी पानी का प्रबंध हो सकेगा। 15 वर्ष बाद 25 एमएलडी क्षमता का दूसरा डब्ल्यूटीपी और बनाया जाएगा।
  • चंबल से मुरैना तक 23 किमी की लंबाई में राइजिंग मैन लाइन से लेकर अन्य दो प्रकार की पाइप लाइन बिछायी जाएंगी। शहर में डिस्ट्रीब्यूशन पाइप लाइन भी बिछायी जाएगी ताकि प्रत्येक घर में प्रत्येक व्यक्ति को 135 लीटर पानी प्रतिदिन प्रदाय किया जा सके।
खबरें और भी हैं...