मुरैना में मुर्दों का वैक्सीनेशन!:पहला डोज लगने के एक महीने बाद दो बुजुर्गों की मौत, 5 महीने बाद आया टीका लगवाने का मैसेज, सर्टिफिटकेट भी भेजा

मुरैना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लल्लू सिंह का प्रमाण पत्र। - Dainik Bhaskar
लल्लू सिंह का प्रमाण पत्र।

सरकार ने शत प्रतिशत वैक्सीनेशन करने का लक्ष्य दिया है। अधिकारी-कर्मचारी इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए फर्जीवाड़ा कर रहे हैं। हद तो तब हो गई, जब इस लक्ष्य पूरा करने के लिए उन्होंने मृत व्यक्तियों जिन्हें एक डोज लग चुका था तथा दूसरा डोज नहीं लगा था, उन्हें दूसरे डोज का प्रमाण पत्र जारी कर दिया। टीकाकरण अधिकारी अजय गोयल का कहना है कि मामले की जानकारी मिली है। गलती कहां हुई है, इसकी जांच करवाई जा रही है।

प्रमाण पत्र
प्रमाण पत्र

केस -1
सेना के सेवानिवृत्त हवलदार लल्लू सिंह परमार पुत्र कप्तान सिंह परमार निवासी, अंबाह, बाइपास रोड, मुरैना को कोवीशील्ड का पहला डोज 16 अप्रैल 2021 को लगा था। उसके बाद 17 मई 2021 को उनकी मृत्यु हो गई। उनकी मृत्यु का प्रमाण पत्र उनके परिवार के पास बताया जाता है। यह प्रमाण पत्र योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग द्वारा उनके परिवार को दिया गया है। इसके बाद 27 सितंबर को 2021 को लल्लू सिंह परमार के नाम से कोवीशील्ड का दूसरा डोज लगाने का प्रमाण पत्र जारी कर दिया गया।

प्रमाण पत्र
प्रमाण पत्र

केस -2
मुरारीलाल उपाध्याय निवासी हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी को वैक्सीन का पहला डोज 8 मार्च 2021 को लगा था। दूसरा डोज 27 सितंबर 2021 को लगाया गया। टीका लगाने वाले का नाम सूर्यकांत चौराया बताया गया। बताया जाता है कि मार्च में डोज लगने के बाद 27 अप्रैल को उनकी तबीयत खराब हो गई। उन्हें ग्वालियर ले जाया गया, जहां रास्ते में मृत्यु हो गई थी। यहां भी विभाग ने घोर लापरवाही की। उनके परिवार को भी 27 सितंबर 2021 सोमवार को कोवीशील्ड की दूसरी डोज लगने का मैसेज आया, तो वह दंग रह गए।

प्रमाण पत्र
प्रमाण पत्र

मनमानी कर रहे विभाग के अधिकारी
जानकारों की मानें तो विभाग के अधिकारी लक्ष्य को पूरा करने के लिए मनमानी कर रहे हैं। जिससे लोगों का विभाग पर से विश्वास उठता जा रहा है।

खबरें और भी हैं...