पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सर्दी की मिठाई:80 साल पहले गुड़-तिली से बनाई गजक विदेशों तक जा रही; सीएम शिवराज ने ट्वीट कर प्रशंसा की

मुरैना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गजक की मुरैना में 30 से अधिक वैरायटियां उपलब्ध हैं - Dainik Bhaskar
गजक की मुरैना में 30 से अधिक वैरायटियां उपलब्ध हैं
  • मुरैना की गजक को जीआई टैग दिलाने शिवराज सिंह ने किया ट्वीट
  • सीएम बोले- देश-विदेश में दिलाएंगे पहचान

80 साल पहले गांव-देहात में लगने वाले मेला (नुमायश) में बेचने के लिए मुरैना के सीताराम शिवहरे ने गुड़ में तिली मिलाकर एक ऐसी मिठाई तैयार की, जो स्वादिष्ट होने के साथ-साथ सर्दियों में सेहत के लिए भी फायदेमंद थी। आगे चलकर इसी गुड़ की पट्‌टी को नाम मिला “गजक’। अपने विशेष स्वाद की वजह से देश-विदेश में फेमस गजक की मुरैना में 30 से अधिक वैरायटियां उपलब्ध है।

मुरैना की गजक की प्रसिद्धि का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक वर्ष पूर्व इस गजक को जीआई टैग (भौगोलिक क्षेत्र के हिसाब से वहां बनने वाली विशेष व्यंजन की पहचान) दिलाने के प्रयास शुरू हुए। आत्मनिर्भर मप्र की परिकल्पना संजोए बैठे मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को खुद ट्वीट कर मुरैना की गजक की प्रशंसा की।

एक जिला-एक उत्पाद मिशन के तहत गजक निर्माता संघ का करेंगे निर्माण

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अपने ट्वीट में कहा कि “मुरैना की गजक सारे विश्व में प्रसिद्ध है। इससे जुड़े उद्योगों को एक जिला, एक उत्पाद के अंर्तगत बढ़ावा देने के लिए गजक निर्माता संघ का निर्माण किया गया है और जीआई टैगिंग के लिए आवेदन किया गया है। इसे लेकर कार्यशाला भी आयोजित की जाएगी। इस पहल के लिए जिला प्रशासन को बधाई व शुभकामनाएं’

मुरैना की 30 तरह की वैरायटियां, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, कनाडा तक होती है एक्सपोर्ट

सर्दी की मिठाई के नाम से 80 साल पहले गजक ईजाद करने वाले सीताराम शिवहरे के बेटे व वैष्णो गजक भंउार के संचालक सूरज शिवहरे बताते हैं कि पहले गुड़-शक्कर में तिली मिलाकर पट्‌टी वाली गजक बनती थी। लेकिन अब तो गजक रोल, समोसे, गजक की गुजिया, गजक की बाटी, डोंड़ा बर्फी, चॉकलेट बर्फी, काजी पट्‌टी, मावा तिली के लड्‌डू, तिल-पापड़ी, खस्ता गजक सहित 30 तरह की वैरायटियां बन रही हैं।

शहर में गजक की 100 से अधिक छोटी बड़ी दुकानें हैं, जिनमें एक सीजन में 1500 क्विंटल से अधिक गजक का उत्पादन होता है। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, कनाडा, साउथ अफ्रीका, थाइलैंड, बैंकॉक, सिंगापुर, मलेशिया जैसे देशों तक भी लोग अपने रिश्तेदारों को गजक भेजते हैं। वहीं मुरैना में बनी रेडीमेड गजक देशभर में एक्सपोर्ट होती है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय चुनौतीपूर्ण है। परंतु फिर भी आप अपनी योग्यता और मेहनत द्वारा हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। लोग आपके कार्यों की सराहना करेंगे। भविष्य संबंधी योजनाओं को लेकर भी परिवार के साथ...

    और पढ़ें