पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिक्षा:अप्रैल से खोले जाएंगे आदिम जाति विभाग के छात्रावास

मुरैना7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • छात्रावासों में हॉस्टलों में 9वीं-11वीं के विद्यार्थियों को नहीं दिया जाएगा प्रवेश

काेविड-19 के कारण जिले के 74 छात्रावास अप्रैल महीने में फिर खाेले जाएंगे। इससे छात्रावासों में रहकर पढ़ाई करने वाले छात्र-छात्राओं की समस्या दूर हाे सकेगी। सीएम के आदेश पालन में जनजातीय छात्रावासों को खोलने की तैयारियां शुरू हो गई हैं। 10वीं-12वीं की बोर्ड तथा कॉलेज परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुए जनजातीय वर्ग के विद्यार्थियों को आवासीय सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। छात्रावासों में कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक सावधानियों का पालन अनिवार्य होगा। शासन आदेश के मुताबिक आश्रम, जूनियर छात्रावास अभी नहीं खोले जाएंगे। हॉस्टलों में 9वीं-11वीं के विद्यार्थियों को प्रवेश नहीं मिलेगा।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने पिछले दिनों ज्ञापन देकर छात्रावास खोले जाने की मांग की थी। छात्रों ने इसके लिए प्रदर्शन भी किया था, वहीं स्कूली छात्राओं ने संबंधित प्राचार्य के माध्यम से स्कूल खोलने की मांग की थी। सीएम के आदेश से जिले के पांच हजार से अधिक छात्रों को इसका लाभ मिलेगा। छात्रावास बंद होने से विद्यार्थियों के पालकों को आर्थिक नुकसान हो रहा था।

छात्रावास बंद हाेने से आ रहीं ये समस्याएं
ग्रामीण क्षेत्राें से शहर आकर स्कूल, काॅलेजाें में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं के लिए शासन विभिन्न याेजनाओं में छात्रावास सुविधा उपलब्ध कराता है। इससे विद्यार्थियाें का शहर में रहने का महंगा आवास खर्च बचता है व छात्रावास में उन्हें अध्ययन के लिए अनुकूल वातावरण भी मिलता है। काेविड 19 की गाइड लाइन काे ध्यान में रखते हुए छात्रावास बंद कर दिए थे अब छात्रावासियों काे राहत मिल सकेगी। वहीं प्रत्येक छात्रावास में अलग से एक क्वारिन्टाइन रूम बनाया जाएगा।

कोरोना से बचाव के लिए लागू गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित कराने के लिए छात्रावास अधीक्षकों का स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से प्रशिक्षण कराया जाएगा। प्रत्येक छात्रावास निकटतम शासकीय स्वास्थ्य केंद्र के साथ संबद्ध किया जाएगा।

छात्रों की सुरक्षा करेगा एप
सरकारी स्कूलों में आपातकालीन स्थिति में छात्रों की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने भारतीय रेडक्रॉस सोसाइटी के सहयोग से फर्स्ट एड टीचर्स एंड स्टूडेंट्स (फास्ट) मोबाइल एप बनाया है। इस एप का इस्तेमाल बच्चों के साथ-साथ पालक और शिक्षक भी आसानी से कर सकेंगे। हाथ में चोट लगने पर खून निकलना, प्रदूषण से कैसे बचें, कुत्ते या मधुमक्खी के काटने पर क्या करना है, यह सब जानकारी एप में उपलब्ध कराई गई है। राज्य शिक्षा केंद्र ने सभी जिलों को एप के अधिक से अधिक इस्तेमाल के लिए प्रचार प्रसार करने के निर्देश दिए हैं। ताकि स्कूल सुरक्षा विभिन्न आयामों के बारे में छात्रों, शाला प्रबंधन समिति के सदस्यों एवं शिक्षकों को जानकारी प्राप्त हो सके और इस मोबाइल एप का उपयोग कर सकें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें