जुआरियों को पकड़ने में व्यस्त मुरैना पुलिस:बीच शहर में जल रहे मकान, मारी जा रही गोली, पर नहीं ध्यान

मुरैनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुनेश जाटव को अस्पताल लाते परि - Dainik Bhaskar
मुनेश जाटव को अस्पताल लाते परि
  • बीते दिन सात थानों की पुलिस रात भर घूमती रही, पकड़े 34 जुआरी

मुरैना पुलिस का पूरा ध्यान इन दिनों जुआरियों की धरपकड़ में है। बीते दिन जिले की सात थानों की पुलिस रात भर जुआरियों की टोह में गांव-गांव चक्कर लगाती रही। इस दौरान पुलिस को सफलता भी मिली और 34 जुआरी पकड़ लिए। लेकिन पुलिस का ध्यान आम घटनाओं पर नहीं है। बीच मुरैना शहर में दीपावली की रात एक व्यक्ति का घर जल गया और दूसरे को सरेआम गोली मार दी गई। यह बात अलग है कि वह किस्मत से बच गया। दोनों घटनाएं स्टेशन रोड थाने से मात्र दो किलोमीटर के दायरे में घटीं। अब, ऐसे में सवाल यह उठ रहा है कि पूरा पुलिस फोर्स जुआरियों के पीछे क्यों पड़ा है, आम जनता पर ध्यान क्यों नहीं है?
आपको बता दें, कि दीपावली आने पर जिले में जुआ खेलने की परंपरा कोई नई नहीं है। हर दीपावली को गांव-गांव जुआ खिलता है तथा खिलाया जाता है। लोग दिन-रात दांव लगाते हैं और हारते-जीतते हैं। केवल मुरैना जिला ही नहीं अन्य जिलों की भी यही हालत है। गौर करने वाली बात यह है कि दीपावली आने पर जहां जुआरियों की गतिविधियां बढ़ जाती हैं ठीक वैसे ही पुलिस भी सारे काम छोड़कर इन जुआरियों को पकड़ने के लिए सक्रिय हो जाती है।
पुलिसकर्मियों में रहती आतुरता
आपको बता दें, कि जुआरियों को पकड़ने में पुलिस की रुचि इस कदर अधिक होती है कि थानों में उन्हें पकड़ने के लिए छोटे स्तर के अधिकारी व आरक्षकों में आतुरता रहती है। थानों का स्टॉफ अन्य जरूरी कामों को छोड़कर इस काम में लग जाता है।

आग लगी घर में
आग लगी घर में

जलता रहा मकान नहीं पहुंची पुलिस
लोगों ने बताया कि दीपावली की रात रामनगर की सीताराम गली में मौजूद जितेन्द्र पचौरी की दुकान व मकान में आग जलती रही लेकिन पुलिस नहीं पहुंची। जब तक पुलिस पहुंची उससे पहले फायर ब्रिगेड पहुंच चुकी थी और आग बुझा चुकी थी। जिस मकान में आग लगी है वह स्टेशन रोड थाने से चंद कदम की दूरी पर है।
सरेआम करते रहे पिटाई, मार दी गोली
लालौर खुर्द फाटक स्टेशन रोड थाने से मात्र डेढ़ किलोमीटर के दायरे में है। बीच रोड पर युवक मुनेश सिंह जाटव पुत्र नवाब सिंह, निवासी लालौर खुर्द पर आधा दर्जन लोग टूट पड़े। उसकी पहले जमकर पिटाई करते रहे । अपनी जान जाते देख वह भागा लेकिन भाग नहीं सका। आरोपियों ने उसको पीछे से कट्‌टे से गोली मार दी। पड़वा वाले दिन अपनी मोटरसाइकिल से रिश्तेदारों के यहां जा रहा था। उसी दौरान आधा दर्जन लोगों ने उसे चारों तरफ से घेर लिया। यह लोग योजनाबद्ध तरीके से उसे मारने आए थे। उन्होंने पहले उसकी मोटरसाइकिल रोकी तथा उसको जमीन पर पटक लिया। पटकने के बाद सभी ने लाठी डंडों से उसको पहले पीटा तथा जब वह भागने को हुआ तो उस पर गोली चला दी। उस समय भी पुलिस मौजूद नहीं थी। जब वह गिर पड़ा तो उसके पड़ोसियों ने उसको बचाया और फिर पुलिस को खबर की। बाद में पुलिस मौके पर पहुंची तथा उसको लेकर जिला अस्पताल लेकर गई।
इन 7 थानों की पुलिस रात भर घूमती रही जुआरियों की टोह में
बीती रात अंबाह थाने की पुलिस ने 7 जुआरी पकड़े। कोतवाली थाने ने 4, जौरा थाने ने 9, टेटरा थाने ने 2, बागचीनी थाने ने , सुमावली थाने ने 3 तथा नूराबाद थाना पुलिस ने 4 जुआरियों को पकड़ा है। इनको पकड़ने के लिए सात थानों की पुलिस रात भर चक्कर काटती रही। इससे एक दिन पहले दीपावली की रात जिस रात आग लगी थी स्टेशन रोड थाना पुलिस ने तीन लोगों को जुआ खेलते पकड़ा था।

इस संबंध में स्टेशन रोड थाना प्रभारी आशीष राजपूत का कहना है कि मुनेश जाटव को गोली मारने वाली जगह थाने से काफी दूर है तथा लगभग तीन किलोमीटर दूर है जिसकी वजह से पुलिस को घटना देरी से पता लगी थी।