सरायछोला से बानमौर तक नो स्पीड:अगर किसी ने तेज रफ्तार चलाई गाड़ी तो तुरंत पकड़ लेगा इंटरसेप्टर व्हीकल

मुरैना20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वाहन का पूजन करते एसपी शाक्यवा - Dainik Bhaskar
वाहन का पूजन करते एसपी शाक्यवा
  • आगरा-मुम्बई हाईवे पर सबसे अधिक होती वाहन दुर्घटनाएं
  • एसपी ललित शाक्यवार ने पहले किया पूजन फिर झंडी दिखाकर किया रवाना

अगर आप वाहन से धौलपुर से ग्वालियर जा रहे हैं, तो आपको सरायछोला से बानमौर तक अपने वाहन की गति 40 किलोमीटर प्रति घंटे तक ही रखना होगी। अगर इससे अधिक अपने वाहन दौड़ाया तो ट्रेफिक पुलिस का इंटरसेप्टर वाहन तुरंत पकड़ लेगा। इस वाहन की कीमत 40 लाख रुपए से अधिक है। आपको बता दें, कि सबसे अधिक दुर्घटना इसी रोड पर होती हैं। यह दुर्घटना भी सरायछोला से बानमौर के बीच होती हैं। कारण यहां सबसे अधिक ट्रेफिक रहता है वहीं वाहनों की रफ्तार सबसे अधिक रहती है। इसलिए इस इंटरसेप्टर वाहन को सरायछोला से बानमौर जो कि मुरैैना जिले की सीमा है, सीमित किया गया है।

इंटर सेप्टर वाहन
इंटर सेप्टर वाहन

एक किलोमीटर दूरी से नाप लेती गति
इस इंटरसेप्टर मशीन की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह वाहन की गति सीमा को एक किलोमीटर दूरी से ही नाप लेती है। मशीन इनोवा गााड़ी के पीछे की तरफ लगी होती है। जिसमें एक लेजर दुरबीन लगी होती है, इससे दूरी नापी जाती है। अगर कोई वाहन चालक तेज रफ्तार वाहन चला रहा है तो उसके खिलाफ तुरंत चालान स्पॉट पर ही बनाकर उसे थमाया जाएगा साथ ही मौके पर ही चालान की राशि वसूली जाएगी।
सीट बैल्ट व शराब पीकर चलाने वालों पर कार्रवाई
इस इंटरसेप्टर वाहन द्वारा उन वाहन चालकों पर भी तुरंत चालानी कार्रवाई की जाएगी जो कि बना सीट बेल्ट के वाहन चला रहे हैं साथ ही मोबाइल पर बात करते हुए वाहन चला रहे हैं। इसके अलावा उन वाहन चालकों पर भी कार्रवाई की जाएगी जो शराब पीकर वाहन चलाते पकड़े जाएंगे।

वाहन को देखते पुलिस अधीक्षक
वाहन को देखते पुलिस अधीक्षक

तुरंत इमेज खींच लेगी मशीन
यहां बता दें, कि इस मशीन की खासियत यह है कि इसमें लगे कैमरे द्वारा मोबाइल पर बात करते हुए वाहन चालकों की फोटो तुरंत खींच ली जाएगी। इसी प्रकार बिना सीट बेल्ट वालों की भी इमेज खींच ली जाएगी।
जीपीएस व साउंड मीटर सिस्टम से लैस है वाहन
बता दें, कि इंटरसेप्टर वाहन जीपीएस एवं साउंड सिस्टम से लैस है। इसमें स्पीड राडार के साथ-साथ टिंट मीटर भी लगा है। इसमें फोटो दौड़ते हुए वाहन का फोटो खींचने में 3 सकेंण्ड का समय लगेगा। इसके अलावा यह रात में तेज भागने वाले वाहनों के भी नंबर ले लेगा। यह इन्फ्रारेड रेज से काम करता है

वाहन को झंडा दिखाकर रवाना करते हुए
वाहन को झंडा दिखाकर रवाना करते हुए

कहते हैं पुलिस अधीक्षक
इस वाहन का सबसे बड़ा उपयोग दुर्घटनाओं को अंजाम देते तेज रफ्तार वाहनों पर अंकुश लगाना है। इसके अलावा जो लोग शराब पीकर व लापरवाही से वाहन चलााते हैं, उन पर शिकंजा कसना है।
ललित शाक्यवार, पुलिस अधीक्षक, मुरैना

खबरें और भी हैं...