पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Morena
  • Instead Of Catching Them, SDM And SDOP Are Doing The Ritual Of Mixing The Dump Sand In The Soil, In The Rain, The Soil Will Flow Again And Reach The Field, The Mafia Will Use The Sand Again.

सरे आम चंबल के रेत से भरे ट्रेक्टर गुजर रहे:उन्हें पकड़ने की जगह SDM व SDOP डंप रेत को मिट्‌टी में मिलाने की कर रहे रस्मअदायगी,बारिश में मिट्‌टी बहकर फिर पहुंच जाएगी खेत में, रेत का उपयोग फिर कर लेगें माफिया

मुरैना8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डंप रेत पर होती कार्रवाई - Dainik Bhaskar
डंप रेत पर होती कार्रवाई
  • SDO श्रद्धा पंद्रे ने खोली थी पुलिस की पोल,अपने ऊपर लगे दाग मिटाने जिला व पुलिस प्रशासन कर रहा दिखावे की कार्रवाई

वन विभाग की SDO श्रद्धा पंद्रे रेत माफिया के ट्रेक्टर व ट्रक पकड़कर उन्हें राजसात करती थीं। इससे रेत माफिया को सीधा लाखों रुपए का नुकसान होता था। इस नुकसान से बचने के लिए वह दोबारा रेत की तस्करी करने की जल्द ही हिम्मत नही करता था। श्रद्धा पंद्रे ने महिला थाने में रेत के उपयोग की पोल खोली थी। इससे जिले के पुलिस विभाग की बहुत किरकिरी हुई है। श्रद्धा पंद्रे का ट्रांसफर हो गया, लेकिन किन हालात में हुआ, यह किसी से छिपा नहीं है। उनके जाने के बाद जिले की पुलिस व प्रशासन अपनी छवि पर लगे दाग को धोना चाहता है। जिले में सरे आम अवैध रेत से भरे ट्रेक्टर ट्राली व ट्रक दौड़ रहे हैं, प्रशासन उन्हें नहीं पकड़ पा रहा हैं, बल्कि दिखावे के लिए रेत डंप की कार्रवाई कर रहा हैं। इसी क्रम में बुधवार को पोरसा कस्बे के रैपुरा गांव में एक जगह डंप रेत को मिट्‌टी में मिलाने की कार्रवाईSDM व SDOP द्वारा की गई। जानकारों का कहना है कि अगर पुलिस व प्रशासन को रेत माफिया की कमर तोड़ना है तो बड़ी मात्रा में उनका नुकसान करना होगा। उनके अवैध रेत से भरे ट्रेक्टर ट्राली व ट्रक जब्त करने होंगे तथा उन्हें राजसात करना होगा। तभी अवैध खनन पर रोक लगना संभव है। जिला व पुलिस प्रशासन इस कार्रवाई को करने से पीछे हट रहा है क्योंकि अगर करता है तो उसे सीधे राजनैतिक आकाओं से टक्कर लेना होगी, जो पुलिस व प्रशासन के अधिकारी लेना नहीं चाहते। वह इस बात को भली भांति जानते हैं कि अगर उन्होंने इन राजनैतिक लोगों से टक्कर ली तो जिले में टिक नहीं पाएंगे। और फिर उनका भी वही हाल होगा जो पूर्व SP सुनील कुमार पाण्डे व SDO श्रद्धां पंद्रे का हुआ। लिहाजा अपनी नौकरी बची रहे और जनता की नजरों में खनन माफिया के खिलाफ कार्रवाई होती दिखती रहे, इसलिए वह डंप रेत को मिट्‌टी में मिलाकर कार्रवाई के नाम पर रस्म अदायगी कर रहे है।

बारिश में बह जाएगी मिट्‌टी, फिर रेत माफिया कर लेंगे उपयोग
यहां बता दें, कि डंप रेत को मिट्‌टी में मिलाने की कार्रवाई के दौरान JCB मशीन से डंप रेत को खेत में फैलाया जाता है। रेत अधिक संख्या में होने पर उसे अधिक फैलाना संभव नहीं होता है। लिहाजा उसे थोड़ा बहुत फैलाकर कार्रवाई की रस्म अदायगी की जाती है। बारिश का सीजन चल रहा है। जो रेत मिट्‌टी में मिलाई गई है वह बारिश में बह जाएगी। इसके बाद रेत माफिया उसे रेत को दोबारा उठाकर बेचने लग जाएंगे।

डंप रेत को मिट्‌टी में मिलाती जेसीबी
डंप रेत को मिट्‌टी में मिलाती जेसीबी

यह अधिकारी पहुंचे थे रेत मिट्‌टी में मिलाने
बुधवार को SDM अंबाह राजीव समाधिया, SDOP अंबाह अशोक सिंह जादौन, तहसीलदार पोरसा राजकुमार नागोरिया एवं थाना प्रभारी पोरसा, रामपाल सिंह जादौन दल बल के साथ ग्राम रैपुरा पहुंचे। वे भूमि सर्वे नंबर 902/2, 881 एवं 911 पर पहुंचे तथा वहां डंप रखी गई अवैध चंबल के रेत को जेसीबी से मिट्‌टी में मिलाने की कार्रवाई की।

खबरें और भी हैं...