पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

धर्म:भक्तांबर स्त्रोत शिविर में जैन मुनि ने किया बच्चों का उपनयन संस्कार; संस्कार की प्रथम पाठशाला मां: सागर

मुरैना20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
उपनयन संस्कार में आए जैन समाज के बच्चे। - Dainik Bhaskar
उपनयन संस्कार में आए जैन समाज के बच्चे।

संस्कार की प्रथम पाठशाला मां के गर्भ में ही प्रारंभ हो जाती है। इसलिए गर्भकाल में मां को सावधानी बरतनी चाहिए। अगर मां गर्भ के समय टीवी, फिल्म, मोबाइल आदि का प्रयोग अधिक करती है तो बच्चों में गलत संस्कार प्रवेश करते हैं और यह समय यदि शास्त्रों का पठन पूजन भजन आदि धार्मिक क्रियाओं में बिताया गया हो तो बच्चों में अच्छे संस्कार आते हैं। ऐसे संस्कारित बच्चे ही वृद्ध अवस्था में मां-बाप की लाठी (सहारा) बनते हैं।

यह उपदेश श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन पंचायती बड़ा मंदिर मुरैना में जैन मुनि विनम्र सागर महाराज बच्चों के उपनयन संस्कार कार्यक्रम में दे रहे थे। इस दौरान जैन मुनि ने बच्चों का उपनयन संस्कार किया। इस दौरान जैन मुनि ने कहा कि नई पीढ़ी संस्कारों के अभाव में भटक रही है तथा वे गलत संगति में पड़ जाते हैं। बच्चे कच्ची मिट्टी की तरह होते हैं उन्हें जैसे संस्कार दिए जाते हैं वह उसी तरह ढल जाते हैं। जैसे मिट्टी से दीपक, घड़ा, हुक्का आदि भी बनते हैं और मिट्टी से ही भगवान की प्रतिमा बनती है।

मिट्टी वही है जो पूज्य बनती है। इसी प्रकार बच्चों में से ही कोई चोर, डाकू डॉक्टर इंजीनियर तो कोई इन्हीं बच्चों में से संत महात्मा भी बनता है। मात्र संस्कारों का ही अंतर है। इस अवसर पर धर्म सेवा में जैन समाज के अध्यक्ष राजेंद्र भंडारी, मंत्री पंकज जैन, सुरेश जैन, हरीश चंद्र शास्त्री आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें