पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऑक्सीजन के अभाव में युवक की मौत:जौरा अस्पताल में नहीं थी ऑक्सीजन, डॉक्टरों ने मुरैना रेफर किया, रास्ते में दम तोड़ दिया

मुरैना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जौरा का शासकीय सामुदायिक केंद्र में चरमरा रहीं व्यवस्थाएं। - Dainik Bhaskar
जौरा का शासकीय सामुदायिक केंद्र में चरमरा रहीं व्यवस्थाएं।
  • जौरा शासकीय अस्पताल में इलाज न मिलने पर हो रही मौतें

संजय नगर निवासी दामोदर पुत्र नेतराम की तबियत रविवार को अचानक बिगड़ गई। उसे लेकर परिजन कस्बे के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे। यहां डॉक्टरों ने ऑक्सीजन लेवल देखा, तो कम था। उसे ऑक्सीजन की जरूरत थी, जो अस्पताल में नहीं थी। डॉक्टरों ने उसे मुरैना के लिए रेफर कर दिया। रास्ते में उसने दम तोड़ दिया।

मामला तो ऑक्सीजन की कमी का था। तीन दिन पूर्व शुक्रवार सुबह ग्वालियर से घर लौट रहे सबलगढ़ निवासी केशव पुरी की हालत जौरा पहुंचते समय बिगड़ी। हालत बिगड़ने पर उसकी पत्नी सुबह 6.30 बजे उन्हें अस्पताल पहुंची, लेकिन डॉक्टर ने आधे घंटे तक उन्हें नहीं देखा। इलाज के अभाव में अस्पताल में आधा घंटे तड़पने के बाद केशव पुरी ने दम तोड़ दिया। बाद में डॉक्टर ने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि मरीज को देखा था, वह हार्ट अटैक का मरीज था। उसे यहां मृत अवस्था में ही लाया गया था।

करानी पड़ी एंटीजन जांच
बीते 5 दिनों से बीमार चल रही श्रीकृष्ण मंदिर रोड निवासी राहुल बंसल सोमवार को 85 वर्षीय वृद्ध दादी को लेकर अस्पताल पहुंचे। आरटीपीसीआर जांच कराने की कहने पर डॉक्टरों ने उन्हें मुरैना ले जाने की सलाह दी। इस पर राहुल ने कहा कि शहर के रास्ते बंद हैं। पुलिस वाले गाड़ी भी बाहर नहीं निकलने दे रहे। ऐसे में वे मुरैना कैसे जा सकते हैं। मजबूरन राहुल को एंटीजन जांच करानी पड़ी, जिसमें दादी को पॉजिटिव बताया गया।

डॉक्टर कह रहे मुरैना जाओ, मरीज हो रहे परेशान
कोरोना काल में सामुदायिक स्वास्थय केन्द्र की व्यवस्थाएं चरमरा गई हैं। कोरोना लक्षण दिखने पर अस्पताल में आरटीपीसीआर कोरोना जांच नहीं की जा रही है। डॉक्टर मरीजों को जिला अस्पताल जाने की सलाह दे रहे हैं। ऐसे में मरीजों को कोरोना कर्फ्यू के दौरान न केवल आने-जाने में परेशानी हो रही है, बल्कि आर्थिक संकट से भी जूझना पड़ रहा है। खास बात यह है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में खांसी, बुखार व कोरोना के अन्य लक्षण वाले मरीजों को भी समुचित इलाज नहीं मिल रहा है।

कस्बे के एक निजी डॉक्टर के क्लीनिक पर लगी भीड़
कस्बे के एक निजी डॉक्टर के क्लीनिक पर लगी भीड़

निजी क्लीनिकों पर मरीजों की भीड़
जब लोगों को सामुदायिक स्वास्थय केन्द्र पर इलाज नहीं मिल रहा है, तो वह निजी डॉक्टरों के पास जा रहे हैं। इससे वहां भीड़ लगना शुरू हो गई है। लोगों का शासकीय व्यवस्थाओं पर से विश्वास उठता जा रहा है। लोग कस्बे के निजी चिकित्सकों पर ज्यादा भरोसा जता रहे हैं। एक सप्ताह पूर्व उल्टी, दस्त और शरीर में हरारत होने की शिकायत के बाद भाई को गिर्राज नामदेव अस्पताल लेकर पहुंचे। गिर्राज के मुताबिक अस्पताल में डॉक्टर मरीज को ढंग से परामर्श नहीं दे रहे हैं। दो दिन दवाई लेने के बाद जब आराम नहीं मिला, तो निजी चिकित्सक से परामर्श लिया।