आर्थिक संकट / व्याख्याताओं को 14 महीने से नहीं मिला वेतन, कैसे होगा जीवन यापन

X

  • सरकारी पॉलिटेक्निक के विद्वानों की मांग, लॉकडाउन अवधि का दिलाए जाए मानदेय

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

मुरैना. प्रदेश सरकार द्वारा लाॅकडाउन के दौरान हायर एजुकेशन में पदस्थ अतिथि विद्वानों को 3 महीने का मानदेय दिया गया है। जबकि शासकीय पॉलिटेक्निक और इंजीनियरिंग कॉलेजों में कार्यरत अतिथि विद्वानों को इस सुविधा से वंचित रखा जा रहा है। यह पॉलिटेक्निक इंजीनियरिंग कॉलेजों में कार्यरत अतिथि विद्वानों के साथ अन्याय है। पॉलिटेक्निक अतिथि व्याख्याता संघ के प्रदेश अध्यक्ष योगेश इंदौरिया ने बताया कि प्रदेश में संचालित सरकारी, अर्द्ध सरकारी अनुदान प्राप्त पॉलीटेक्निक महाविद्यालयों में 2000 अतिथि व्याख्याता हैं। जिनका भुगतान 400 प्रति पीरियड अधिकतम 12 दिन के हिसाब से किया जाता है। 16 मार्च से प्रदेश शासन ने कक्षाएं स्थगित कर दी। 
केंद्र सरकार का आदेश है कि किसी भी सरकारी व अर्ध सरकारी संस्थान में कार्यरत कर्मचारी की तनख्वाह न काट जाए लेकिन तकनीकी शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि हमारे पास इस संबंध में कोई आदेश नहीं है। ऐसी स्थिति में पॉलिटेक्निक इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ाने वाले अतिथि विद्वानों के सामने अपने परिवार का पेट भरने का संकट खड़ा                                             हो गया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना