पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अष्टानिका महापर्व:धर्म के बिना जीवन अधूरा है: विज्ञानमति

मुरैनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ज्ञान तीर्थ में चल रहा सिद्धचक्र महामंडल विधान का आयोजन

नेशनल हाइवे स्थित ज्ञान तीर्थ क्षेत्र में अष्टानिका महापर्व के अवसर पर 10 आर्यिकाओं के सानिध्य में सिद्धचक्र महामंडल विधान का आयोजन चल रहा है। रविवार को सिद्धचक्र विधान के सातवें दिन मंडप पर 1024 अर्घ समर्पित किए। सिद्धचक्र महामंडल विधान की समस्त धार्मिक क्रियाएं बाल ब्रह्मचारी मनीष भैया मुरैना द्वारा संपन्न कराई गई। कार्यक्रम का संचालन विज्ञानमति अनीता दीदी ने किया।

धार्मिक आयोजन के प्रारंभ में सुबह 6.30 बजे श्रद्धालुओं द्वारा श्रीजी का अभिषेक किया गया। चतुर्दशी के दिन विज्ञानमति माताजी द्वारा शांति धारा कराई गई। इस दौरान मंदिर कमेटी के अध्यक्ष महेशचंद बंगाली ने महावीर जयंती के लिए श्रीफल समर्पित किए। इसके बाद विज्ञानमति माताजी के प्रवचन हुए। उन्होंने कहा कि जैन आगम में चतुर्दशी एवं अष्टमी का विशेष महत्व होता है। इस दिन किए गए व्रत एवं उपवास कई गुना अधिक फलदाई होते हैं। चतुर्दशी एवं अष्टमी के दिन विशेष प्रकार की ऊर्जा रहती है।

माताजी ने कहा कि जिस प्रकार से पानी के बिना जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती। उसी प्रकार से धर्म के बिना जीवन अधूरा है। यदि व्यक्ति के जीवन में धर्म नहीं है तो कुछ नहीं है। धर्म से ही व्यक्ति पुण्य अर्जित करता है। पुण्य से ही संसारी सुखों की प्राप्ति होती है। माताजी ने कहा कि जिसके जीवन में पुण्य का संचय नहीं है। उसको संसार में सुखों की प्राप्ति नहीं होती। इस अवसर पर ओमप्रकाश जैन, नीलेश जैन, धर्मेंद्र जैन, सत्येंद्र जैन, राकेश जैन, दिनेश जैन, प्रदीप जैन, संतोष जैन आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- सकारात्मक बने रहने के लिए कुछ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करना उचित रहेगा। घर के रखरखाव तथा साफ-सफाई संबंधी कार्यों में भी व्यस्तता रहेगी। किसी विशेष लक्ष्य को हासिल करने ...

    और पढ़ें