पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अनदेखी:बिजली कनेक्शन न होने से फ्लाईओवर पर रात को नहीं जलती लाइट, दुर्घटना की आशंका बढ़ी

मुरैना8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फ्लाईओवर पर रात के समय बंद पड़ी स्ट्रीट लाइट। - Dainik Bhaskar
फ्लाईओवर पर रात के समय बंद पड़ी स्ट्रीट लाइट।
  • पुल के नीचे खाली जगह पर लगने लगे फल के ठेले, सवारियों के इंतजार में खड़े हो रहे कई वाहन

नेशनल हाईवे पर 108 करोड़ की लागत से बनाए गए फ्लाईओवर पर रात के समय स्ट्रीट लाइट नहीं जलती है। जिससे फ्लाईओवर पर रात के अंधेरा रहने से हादसा होने की आशंका है। इस संबंध में बिजली कंपनी के प्रभारी महाप्रबंधक का कहना है कि फ्लाईओवर तैयार करने के लिए मंगलम बिल्डकॉम कंपनी ने बिजली कनेक्शन लिया था। लेकिन इसके बाद फ्लाईओवर का शुभारंभ होने पर एनएएचआई ने अभी तक बिजली कनेक्शन नहीं लिया है। ऐसे में स्ट्रीट लाइट बंद होना स्वाभाविक है। यहां बता दें कि बैरियर क्षेत्र में ट्रेफिक जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए नेशनल हाइवे पर 1.42 किलोमीटर लंबा फ्लाईओवर बनाया गया है। ताकि आगरा-ग्वालियर की ओर जान वाले 12 हजार से अधिक बड़े वाहन बिना शहर में प्रवेश किए निकल सकें।

भारतीय जनता पार्टी फ्लाईओवर बनाए जाने की उपलब्धी को चुनावी सौगात के रूप में देख रही थी। उधर 30 सितम्बर से उपचुनाव की आचार संहिता प्रभावित होनी थी। इसलिए एनएएचआई ने 29 सितम्बर को केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की उपस्थिति में आनन-फानन में फ्लाईओवर का शुभारंभ करा दिया। इस दौरान अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी वर्चुअल माध्यम से समारोह को संबोधित किया तथा इस मौके पर राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, केंद्रीय इस्पात मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते, केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद्र गहलोत, वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से इस समारोह में शामिल हुए। लेकिन एनएएचआई के अधिकारियों ने फ्लाईओवर का शुभारंभ कराने से पूर्व स्ट्रीट लाइट का कनेक्शन लेना उचित नहीं समझा और एक-दो दिन डायरेक्ट तार के जरिए फ्लाईओवर की स्ट्रीट लाइट जलाई?

पुल के नीचे होने लगा अतिक्रमण, अफसरों ध्यान नहीं दे रहे हैं
फ्लाईओवर के नीचे पुल की सुरक्षा के लिए कर्व (डेढ़ फीट की आरसीसी बाउंड्री) बनाए गए हैं। ताकि पुल के नीचे वाहन न खड़े हो सके तथा वाहन के टकराने पर पुल को क्षतिग्रस्त होने से बचाया जा सके। लेकिन केएस चौराहे पर फ्लाईओवर के नीचे बने कर्व में बस, ट्रक, ऑटो व ई-रिक्शा खड़े हो रहे हैं, तो कुछ लोगों ने छोटी-छोटी दुकानें लगा ली हैं। ऐसे में वाहन संतुलित होने पर पुल के नीच हादसा होने का खतरा है तथा फ्लाईओवर का सौंदर्यीकरण प्रभावित हो रहा है।

एनएएचआई ने नहीं लिया है स्ट्रीट लाइट का कनेक्शन फ्लाईओवर तैयार करने के लिए मंगलम बिल्डिकॉम कंपनी द्वारा बिजली कनेक्शन लिया गया था। लेकिन फ्लाईओवर का शुभारंभ होने के बाद एनएएचअाई के स्तर पर स्ट्रीट लाइट का कनेक्शन नहीं लिया गया है। इसलिए रात के समय फ्लाईओवर पर लाइट बंद है। लाइट चालू रखने के लिए एनएएचआई को स्ट्रीट लाइट का कनेक्शन लेना होगा। पीके शर्मा, प्रभारी महाप्रबंधक बिजली कंपनी मुरैना

फ्लाईओवर पर स्ट्रीट लाइट का कनेक्शन लेने आवेदन किया है
फ्लाईओवर पर स्ट्रीट लाइट का कनेक्शन लेने के लिए हमने बिजली कंपनी को आवेदन दे दिया है। फिलहाल हम जनरेट से लाइट जला रहे थे। दो दिन से लाइट बंद हैं। इसकी जानकारी मुझे नहीं मिली है। पुल की सुरक्षा के लिए फ्लाईओवर के नीचे कर्व बनाए गए हैं, ताकि पुल के नीचे वाहन न खड़े हो सकें तथा वाहन की टक्कर से पुल को क्षतिग्रस्त होने से बचाया जा सके। फ्लाईओवर के नीचे कर्व कर्व में आगे क्या प्लानिंग है इसकी फिलहाल मुझे जानकारी नहीं है। अगर वहां लोडिंग वाहन व छोटी दुकानें संचालित की जा रहीं तो उन्हें हटवाया जाएगा।
संजय वर्मा, मैनेजर टेक्नीकल एनएएचआई

खबरें और भी हैं...