पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रशासन की अनूठी पहल:पीले चावल देकर बोले, वेक्सीन का निमंत्रण है, धनेला गांव में पहुंचे अधिकारी, ग्रामीणों से बोले पीले चावल शुभ संकेत, वैक्सीन लगवाओ, सुरक्षित रहो

मुरैनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वैक्सीन लगवाने प्रेरित करने जिला प्रशासन ने निकाला अनूठा तरीका

हल्दी शुभ संकेतक मानी जाती है। इसीलिए शादी विवाह में पीली चिट्‌ठी दी जाती है। किसी को विनय पूर्वक आमंत्रित करना हो तो उसे पीले चावल दिए जाते हैं। इस शुभ संकेतक का जिला प्रशासन ने बखूबी प्रयोग किया है। प्रशासन के अधिकारी गांवों में जाकर ग्रामीणों को पीले चावल देकर उन्हें वैक्सीन लगवाने आमंत्रित कर रहे हैं। अधिकारी जिले के धनेला गांव में पहुंचे। जब उन्होंने पीले चावल देकर कहा कि वैक्सीन जरूर लगवाना है तो ग्रामीण बोले, अब पीले चावल दे दिए हैं, तो आना ही पड़ेगा। जिला प्रशासन वैक्सीन लगवाने के लिए नए-नए रास्ते खोज रहा है। कल जिले के प्रशासनिक अधिकारी धनेला गांव में पहुंचे। वहां जाकर गांव वालों को एकत्रित किया। उनके हाथ में पीले चावल देकर कहा कि आपको वैक्सीन लगवाने के लिए हम आमंत्रित करते हैं। अधिकारियों के इस भाव को देखकर ग्रामीण भी हाथ जोड़कर खड़े हो गए। बोले, साहब, जब आपने पीले चावल दे ही दिए हैं तो आना ही पड़ेगा। इसके साथ ही अधिकारी जिले के खड़गपुर, गुलेंद्रा तथा चुरहेला गांव में पहुंचे और वैक्सीन लगवाने के लिए कहा।

फूल माला पहनाकर ग्रामीणों को किया सम्मानित
फूल माला पहनाकर ग्रामीणों को किया सम्मानित

माला पहनाकर किया सम्मान
इसके साथ ही प्रशासन ने दूसरा फार्मूला अपनाया है। जो ग्रामीण वैक्सीन लगवा चुके हैं। उन्हें फूलों की माला पहनाकर सम्मानित किया जा रहा है। अधिकारी धनेला, खड़गपुर, गुलेन्द्रा व चुरहेला गांव में पहुंचे। वहां जो ग्रामीण वैक्सीन लगवा चुके थे, उन्हें फूल माला पहनाकर सम्मानित किया। उनसे कहा कि आपने बहुत अच्छा काम किया है। दूसरों से भी वैक्सीन लगवाने को कहें।
नोडल अधिकारी बनाए
प्रत्येक पंचायत के लिये अलग-अलग नोडल अधिकारी नियुक्त किये है। ग्राम पंचायत ऐंती, रिठौराकलां, पिपरसेवा के लिये रामदास बाथम, पिलुआ के लिये राजकुमार सौलंकी को नियुक्त किया है। इनके अलावा ग्राम प्रधान, सचिव, जीआरएस, एडीईओ, पीसीओ, पटवारी, शिक्षक, एएनएम, एमपीडब्ल्यू, आशा आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, पर्यवेक्षक, महिला एवं बाल विकास विभाग घर-घर जाएंगे।