पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Morena
  • People From 200 Villages Traveling In Buses Paying Double Fare, Demand Of 3 MLAs From Railway Minister Narrowage Should Be On

ब्रॉडगेज प्रोजेक्ट:200 गांवों के लोग बसों में दोगुना किराया देकर कर रहे सफर, रेलमंत्री से 3 विधायकों की मांग- नैरोगेज चालू हो

मुरैना6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नैरोगेज ट्रेन, जो 1 साल पहले हो चुकी है बंद। - Dainik Bhaskar
नैरोगेज ट्रेन, जो 1 साल पहले हो चुकी है बंद।
  • 3 साल की मियाद, 2 साल में 20% काम हुआ, 3 विधायक बोले-ऐसे तो 5 साल में भी शुरू नहीं होगी ट्रेन
  • कोविड-19 के चलते अप्रैल 2020 से बंद है ग्वालियर-श्योपुर नैरोगेज ट्रेन, ब्रॉडगेज प्रोजक्ट की रफ्तार भी धीमी
  • सुमावली, मुरैना, सबलगढ़ विधायकों ने रेलमंत्री पीयूष गोयल को लिखी चिट्‌ठी

ग्वालियर-श्याेपुर नैरोगेज ट्रेन का संचालन शुरू कराने के लिए कांग्रेस के 3 विधायक मैदान में उतर गए हैं। रेल मंत्री पीयूष गोयल को लिखे पत्र में विधायकों ने कहा है कि मोदी सरकार के कार्यकाल में बड़ी रेल लाइन के लिए पर्याप्त बजट नहीं मिलेगा इसलिए कम आय वर्ग के लोगों को यात्रा सुविधा देने के लिए छोटी रेल लाइन का संचालन तत्काल शुरू कराया जाए। रेल संचालन बंद होने से लोगों को दोगुना किराया देना पड़ रहा है। कोविड-19 का हवाला देकर रेलवे ने अप्रैल 2020 में ग्वालियर- श्योपुर नैरोगेज पैसेंजर ट्रेन का संचालन बंद करा दिया। लॉकडाउन खत्म होने के बाद बड़ी रेलगाड़ियों का संचालन तो शुरू कराया गया लेकिन नैरोगेज पैसेंजर अभी तक बंद है। इस कारण लोगों को बसों से सफर करना पड़ रहा है।

बसों का किराया अधिक होने के कारण कम आय वर्ग के लोगों की जेब पर इसका बोझ पड़ रहा है। नैरोगेज पैसेंजर ट्रेन के माध्यम से ग्वालियर से श्योपुर के बीच हर महीने डेढ़ लाख लोग यात्रा करते रहे हैं। लेकिन 11 महीने से मुरैना व श्योपुर जिले की 6 विधानसभाओं के लोग रेल यात्रा सुविधा न मिलने से परेशान हैं।
रेल मंत्री को कांग्रेस विधायकों ने लिखा पत्र
कांग्रेस विधायक राकेश मावई, अजब सिंह कुशवाह व बैजनाथ कुशवाह ने शुक्रवार को रेल मंत्री पीयूष गोयल को भेजे पत्र में कहा है कि मोदी सरकार ने ग्वालियर-कोटा ब्रॉडगेज रेल प्रोजेक्ट के लिए 1100 करोड़ की मांग के विपरीत 25 करोड़ का बजट स्वीकृत किया है।

इतने कम बजट के कारण ठेकेदार को काम काे आगे नहीं बढ़ा पा रहे हैं। इस हाल में 3000 करोड़ का यह प्रोजेक्ट आगामी पांच साल में भी पूरा नहीं होगा। चूंकि राज्य के लोगों को यात्रा सुविधा उपलब्ध कराना केन्द्र व राज्य सरकार की नैतिक जिम्मेदारी है इसलिए डेढ़ लाख लोगों की सुविधा के लिए नैरोगेज पैसेंजर ट्रेन का संचालन तत्काल शुरू कराया जाए।
किराए में 305 रुपए का अंतर
कांग्रेस विधायक बैजनाथ कुशवाह का कहना है कि नैरोगेज पैसेंजर ट्रेन शुरू होने से ग्वालियर-श्याेेपुर के बीच यात्रा करने वाले मध्यम वर्ग के लोगों को सुविधा मिलेगी। क्योंकि अभी ग्वालियर से श्योपुर तक बस से यात्रा करने पर 350 रुपए किराया देना पड़ रहा है। जबकि रेल यात्रा का टिकट 45 रुपए का है। किराए में 305 रुपए का अंतर मायने रखता है। विधायक कुशवाह ने तर्क दिया है कि रेल यात्रा बीमित है लेकिन प्राइवेट बसों की यात्रा बीमित नहीं है। इसलिए 6 विधानसभा के लोगों को रेल यात्रा सुविधा से वंचित नहीं रखा जा सकता है।
25 करोड़ से ट्रैक व ब्रिज बनेंगे
रेलवे की मानें तो एक अप्रैल के बाद मिलने वाले 25 करोड़ से झांसी की घनाराम एंड कंपनी बानमोर से सुमावली के बीच अर्थ ट्रैक बनाने से लेकर 12 छोटे पुलों का निर्माण कराएगी। इसके लिए पुणे की कंपनी को 10 में से 6 बड़े पुल बनाने के लिए पैसा दिया जाएगा।

प्रमुख सचिव ने वापस किया पत्र
नैराेगेज पैसेंजर ट्रेन का संचालन स्थाई रूप से बंद करने के लिए रेलवे के प्रस्ताव को प्रमुख सचिव ने कलेक्टर को वापस कर दिया है। कलेक्टर से अभिमत मांगा गया है कि प्रशासन व रेलवे के अधिकारी संयुक्त रूप से यह सर्वे करें कि नैरोगेज रेलगाड़ी बंद होने का जनता पर क्या प्रभाव पड़ेगा। सर्वे रिपोर्ट के आधार पर राज्य शासन, रेलवे को नैरोगेज पैसेंजर ट्रेन के संचालन को बंद करने या चालू करने का निर्णय लेगा।
जौरा से आगे नहीं चलेगा काम
ब्रॉडगेज रेल प्रोजेक्ट के लिए 1100 करोड़ के टेंडरों के विपरीत 25 करोड़ के बजट से रेलवे अब जौरा से आगे बड़ी रेल लाइन का काम शुरू नहीं कराएगी। कारण बजट की कमी और नैरोगेज रेल लाइन का यथावत होना है। बजट संकट के दौरान में कैलारस, सबलगढ़ व वीरपुर आदि स्थानों पर किसानों की निजी जमीन के अधिग्रहण के लिए भी रेलवे 2021 में जोर नहीं देगी। क्योंकि जमीन मांगने के साथ ही कलेक्टर मुआवजा राशि की मांग करेंगे।

खबरें और भी हैं...