किसानों को खाद के बदले मिल रहे पुलिस के डंडे:कैलारस में किसानों पर पुलिस ने किया लाठी चार्ज, सामने आया वीडियो

मुरैना7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कैलारस में किसानों पर लाठी चार - Dainik Bhaskar
कैलारस में किसानों पर लाठी चार
  • किसानों को नहीं मिल रही खाद, प्रशासन की पुरानी रट, हमारे पास पर्याप्त खाद

मुरैना में किसानों को खाद के बदले डंडे खाने को मिल रहे हैं। पुलिस द्वारा किसानों पर लाठी चार्ज करने का वीडियो सामने आया है। वीडियो में स्पष्ट दिखाई दे रहा है कि लाइन में लगे किसानों को पुलिस बेरहमी से डंडों से पीट रही है। बेचारे किसान पहले से ही खाद न मिलने से मुसीबत के मारे हैं, ऊपर से पुलिस के डंडे मिलने से उनमें आक्रोश उत्पन्न हो रहा है। बुधवार को सबलगढ़ में किसानों ने जाम लगा दिया है।
आपको बता दें, कि खाद न मिलने से किसानों के सामने जीने-मरने का सवाल पैदा हो गया है। किसान की पूरी फसल दांव पर लगी है। अगर उसको खाद नहीं मिला तो उसके सामने भूखों मरने के अलावा कोई चारा नहीं रहेगा। अपनी फसल बचाने के लिए किसान हर कीमत पर खाद लेने के लिए तैयार है। हालत यह है कि डंडे खाने के बावजूद किसान लाइन में लगा है तथा खाद के लिए जद्दोहद कर रहा है।
बेरहमी से पीटा किसानों को
कैलारस में यह स्थिति हो गई कि एक तरफ किसान एक दिन पहले से अपने बीबी बच्चों के साथ खाद वितरण केन्द्रों पर डेरा जमाए बैठा था। दूसरी दिन जब वह खाद के लिए लाइन में लगा तो उसे खाद तो नहीं मिली बल्कि पुलिस के डंडे जरूर मिले। डंडे खाने के बावजूद किसान लाइन में लगे रहे तथा खाद के लिए मिन्नते करते रहे।
सबलगढ़ में लगाया जाम
आपको बता दें, कि जिले में खाद की किल्लत थमने का नाम नहीं ले रही है। दो दिन पहले कैलारस में किसानों पर लाठी चार्ज किया गया था। कल मंगलवार को मुरैना के सभी खाद वितरण केन्द्र बंद रहे। बुधवार को सबलगढ़ में किसानों ने जाम लगा दिया। इसके साथ-साथ अंबाह व पोरसा में भी कल जाम लगाए गए थे। इसके बावजूद किसानों की समस्या का निदान नहीं हो पा रहा है।
सोसायटियों को सप्लाई हो रहा खाद
आपको बता दें, कि जो खाद आ रहा है वह सीधा सोसायटियों पर जा रहा है। सोसायटियों के माध्यम से खाद का वितरण किया जाता है। अब जो किसान सीधा नगद खाद लेना चाहते हैं उनको खाद नहीं मिल पा रहा है।
निजी दुकानदार कर रहे कालाबाजारी
किसानों की मजबूरी का फायदा उठाकर निजी दुकानदार डीएपी खाद को ऊंचे दामों पर बेच रहे हैं। गत दिवस अंबाह में एक दुकान पर छापा मारकर उसे ऊंचे दाम पर खाद बेचते पाया है। अंबाह थाने में संबंधित के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। यह तो मात्र एक उदाहरण है। जिले के अधिकांश निजी दुकानदारों द्वारा ऊंचे दामों पर खाद बेचा जा रहा है और किसान उसे खरीदने को मजबूर है।
जिला प्रशासन कह रहा पर्याप्त खाद है
एक तरफ पूरे जिले में खाद के लिए हाय-तौबा मची है, किसान डंडे खा रहे हैं। दूसरी तरफ जिला प्रशासन का कहना है कि उसके पास पर्याप्त खाद है। फिर सवाल यह है कि अगर पर्याप्त खाद है तो किसानों को क्यों नहीं मिल रहा है।
कहते हैं अधिकारी
हमें आज साढ़े आठ सौ टन खाद मिल गया है। कल हमें एक हजार टन खाद मिल जाएगा। उसके अगले दिन हमें 1200 टन खाद मिलेगा। हमें जितना खाद मिलता जा रहा है, उतना हम बांटते जा रहे हैं।
बक्की कार्तिकेयन, कलेक्टर

खबरें और भी हैं...