पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

संक्रमितों का आंकड़ा छिपाने का जतन:एंटीजन के मुकाबले आरटीपीसीआर में संक्रमण दर दोगुनी, इसलिए इस जांच पर भी रोक, अब सिर्फ 700 ही जांच होंगी

मुरैना10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पहले सैंपलिंग घटाई, अप्रैल में 17207 सैंपल 296 मरीज मिले

कोरोना संक्रमित मरीजों के आंकड़े छिपाने के लिए अब सरकार ने अंचल में एंटीजन टेस्ट को सीमित करने के आदेश जारी कर दिए हैं। इसके पीछे वजह भी स्पष्ट है। अप्रेल में पीएस मलय श्रीवास्तव ने कहा था कि अधिक से अधिक सैंपल करें। लेकिन भोपाल स्तर से सभी ब्लॉक पर 40-40 के टारगेट फिक्स कर दिए गए। फिर भी 30 दिन में 2 हजार 900 से अधिक मरीज जिलेभर में निकल आए। इसमें भी आरटीपीसीआर सैंपल की वजह से 2200 मरीजों को खोजने में सफलता मिली। यह आंकड़ा देखकर सरकार ने अब भोपाल स्तर से तय किया है कि जिले में एंटीजन जांच ही की जाए। नई आदेश के पालन में जिले में 500 एंटीजन व 200 आरटी-पीसीआर ही किए जाने हैं।

अप्रैल महीने के आंकड़ों पर नजर डालें तो जिलेभर में 17 हजार से अधिक लोगों के सैंपल किए गए, जिसमें 2900 से अधिक संक्रमित मिले। इसमें भी एंटीजन के 6400 सैंपल में 678 मरीज मिले यानि संक्रमण दर 10 रही। 100 सैंपल में 10 मरीज संक्रमित मिले। जबकि इसके मुकाबले आरअीपीसीआर के 10 हजार 751 सैंपल में 200 मरीज मिले, यानि संक्रमण दर 20 प्रतिशत रही। यानि हर 100 सैंपल में 20 मरीज मिले। चूंकि आरटी-पीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट को पक्का माना जाता है और उसके टेस्ट की रिपोर्ट को बदला नहीं जा सकता इसलिए आईडीएसपी ने मेडिकल कॉलेज स्तर पर जांचे जाने वाले टेस्ट की संख्या कम कर दी है।

नई व्यवस्था: अब रोज 500 टेस्ट एंटीजन होंगे तो आरटीपीसीआर सिर्फ 200
नई व्यवस्था में कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए जिले में अब एंटीजन पद्धति से 500 व आरटी-पीसीआर से 200 टेस्ट किए जाने हैं। आरटी-पीसीआर के 200 सैंपलों का लक्ष्य जिला अस्पताल से ही पूरा हो जाएगा इसलिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय ने पोरसा, अंबाह, खड़ियाहार, नूराबाद, बानमोर, जौरा, कैलारस, सबलगढ़ व पहाड़गढ़ के सरकारी अस्पतालों में शनिवार से आरटी-पीसीआर सैंपलिंग बंद करा दी है। पैरी-फेरी के अस्पतालों में सोमवार से सिर्फ एंटीजन पद्धति से ही कोरोना की जांच हाेगी।

लोग चाहते हुए भी आरटी-पीसीआर पद्धति से कोरोना की जांच नहीं करा सकेंगे। इसके लिए सबलगढ़ के लोगों को 70 किमी चलकर जिला अस्पताल आना पड़ेगा। चूंकि इस समय यात्री वाहनों का संचालन बंद है उस हाल में बुखार, जुकाम व खांसी से ग्रसित मरीज अब आरटी-पीसीआर टेस्ट नहीं करा पाएंगे। बहुत जरूरी होने पर लोगों को किराए की जीप-कार से मुरैना आना होगा और 1800 रुपए खर्च करने के बाद उसे आरटी-पीसीआर टेस्ट की सुविधा मिलगी। वहीं डॉक्टर्स का भरोसा आरटीपीसीआर टेस्ट पर अिधक है।

अब प्रतिदिन सिर्फ 700 टेस्ट होंगे
इंटीग्रेटेड डिसीज सर्विलांस प्रोग्राम भोपाल से जिले को टारगेट मिला है कि अब मुरैना में प्रतिदिन 700 कोरोना टेस्ट किए जाएंगे। इनमें 200 टेस्ट आरटी-पीसीआर पद्धति से व 500 एंटीजन विधि से किए जाने हैं। इसलिए अब अंचल के अस्पतालों में 20 की जगह 60 सैंपल एंटीजन पद्धति से करने के लिए बीएमओ को निर्देशित किया गया है।
डाॅ. पदमेश उपाध्याय, नोडल अधिकारी कोरोना सैंपलिंग

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें