एक्सपायर्ड डेट की दवाई पर फर्जी स्लिप चिपकाई:सबलगढ़ एसडीओ बोले- क्लोरीन एक्सपायर्ड है तो क्या हुआ, कुएं-हैंडपंप में ही तो डालना है

मुरैना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक्सपायर्ड क्लोरीन सबलगढ़, अंबाह क्षेत्र के दूषित जलस्रोतों में डालने के लिए भेजने का मामला

सबलगढ़ में भेजी गई एक हजार क्लोरीन की बोतलों के एक्सपायर्ड होने के सवाल पर एसडीओ वीके पांडे ने कहा कि एक्सपायर्ड है तो क्या हुआ, है तो पानी साफ करने की दवाई। हैंडपंप-कुओं में ही तो डालना है। जब उनसे पूछा गया कि फिर भी आपने एक्सपायर्ड क्लोरीन क्यों डलवाई तो उन्होंने कहा कि कुछ क्लोरीन की शीशियां सितंबर 2021 में एक्सपायर्ड होने वाली हैं, हमने उन्हें छांटकर अलग रख लिया है। यहां बता दें कि एसडीओ जिस क्लोरीन को सितंबर 2021 में एक्सपायर्ड होने की बात कह रहे हैं, दरअसल वे 2020 में ही एक्सपायर्ड हो चुकी हैं, उनके ऊपर सितंबर 2021 की एक्सपायर्ड डेट की फर्जी स्लिप लगाकर चिपकाई गई हैं। क्लोरीन को एक्सपायर्ड होने के बाद दूषित जलाशयों के पानी को शुद्ध करने के लिए पीएचई विभाग के कार्यपालन यंत्री आरएन करैया के निर्देश पर सबलगढ़-अंबाह भेज दिया गया। हालांकि एक्सपायर्ड क्लोरीन देखकर सबलगढ़ एसडीओ वीके पांडे ने आपत्ति भी दर्ज कराई थी लेकिन अधीक्षण यंत्री करैया के डर की वजह से लैब प्रभारी पवन कुमार वाष्णेय, एई रवि प्रकाश वाजपेयी ने बात दबा दी। इस संबंध में पीएचई अधीक्षण यंत्री आरएन करैया ने बताया कि हमें क्लोरीन एनयूएन से सप्लाई हुई है। बॉटल पर एक्सपायर्ड डेट भले ही 2020 डली है लेकिन सप्लाई करने वाली कंपनी ने जो सर्टिफिकेट दिया है, उसमें एक्सपायरी डेट सितंबर-2021 ही है।

भास्कर ने उठाया मुद्दा तो स्टोर से गायब करा दी लाखों रुपए की एक्सपायर्ड क्लोरीन
लाखों रुपए की एक्सपायर्ड क्लोरीन की बोतलों पर फर्जी स्लिप लगाकर बाढ़ग्रस्त इलाकों में भेजने की खबर दैनिक भास्कर में प्रकाशित होने के बाद पीएचई विभाग के अफसरों में हड़कंप मच गया। शनिवार को आनन-फानन में स्टोर में रखी एक्सपायर्ड क्लोरीन की सभी बोतलों को अफसरों ने हटाकर दूसरी जगह रखवा दी। वहीं चंबल-क्वारी नदी में आई बाढ़ का पानी 74 गांवों में अंदर तक भर गया है, इसकी वजह से इन गांवों में लगे सरकारी हैंडपंप व कुओं का पानी दूषित हो गया है।

एक्सपायर्ड क्लोरीन मामले में जांच कराएंगे
^एक्सपायर्ड क्लोरीन अंचल में सप्लाई किए जाने का मामला हमारे संज्ञान में आया है। इस मामले को हम कलेक्टर के संज्ञान में लाकर जांच कराएंगे।-नरोत्तम भार्गव, एडीएम मुरैना
जांच के आदेश करा रहे
मुरैना में एक्सपायर्ड क्लोरीन की बॉटल पर फर्जी स्लिप लगाने फिर उसे छुटाकर बाढ़ग्रस्त इलाकों में सप्लाई करने का मामला हमारे संज्ञान में आया है। दैनिक भास्कर में प्रकाशित खबर के आधार पर हमने पूरे मामले को प्रमुख अभियंता केके सोनगरिया को अवगत करा दिया है। वहां से हम जांच के आदेश जारी करा रहे हैं।-एसके अंदमान, मुख्य अभियंता पीएचई

खबरें और भी हैं...