पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हार्टअटैक से मौत हो गई:छह महीने से पेंशन मांग रहे रिटायर्ड भृत्य की सदमे से माैत

मुरैनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रिटायर भृत्य ओमप्रकाश शांडिल्य के आवास की बिजली सप्लाई भी चार दिन पहले बंद कर दी थी

वन विभाग के रिटायर कर्मचारी ओमप्रकाश शांडिल्य 63 साल की शुक्रवार की दोपहर 12.30 बजे हार्टअटैक से मौत हो गई। दुनियां छाेड़ने से पहले यह कर्मचारी, अपनी पेंशन चालू कराने के लिए वनमंडल कार्यालय गया था। उसे संतोषजनक जवाब नहीं मिला तो सदमे में उसने दम तोड़ दिया।

भृत्य पद से 6 महीने पहले रिटायर हुए कर्मचारी ओमप्रकाश शांडिल्य अभी वन मंडल के सरकारी आवास में ही रह रहे थे। क्योंकि सेवानिवृत्ति के बाद से अब तक उनके स्वत्वों का भुगतान नहीं किया गया था। पेंशन तैयार करने वाले बाबू सुविधाशुल्क के फेर में उनका पेंशन प्रकरण बनाकर जिला कोषालय नहीं भेज रहे थे। इसके लिए शांडिल्य कई महीनों से डीएफओ कार्यालय के चक्कर लगा रहे थे।

परिजन जीतू शांडिल्य के मुताबिक, उनके पिता शुक्रवार की सुबह 10.30 बजे भी पेंशन प्रकरण तैयार कराने के लिए वनमंडल गए लेकिन 2 घंटे तक जब उन्हें सुना नहीं गया तो वह हताश होकर घर लौट आए और सदमे के कारण उनकी तबियत बिगड़ गई। पिता को इलाज के लिए दोपहर 12.30 बजे जिला अस्पताल ले जाया गया। वहां डॉक्टर ने चेकअप के साथ उनको मृत घोषित कर दिया।

मेरे पिता की पेंशन समय पर स्वीकृत होकर चालू हो गई होती तो उनका निधन नहीं होता। इस संबंध में वन मंडल अधिकारी अमित निकम से बातचीत की गई तो उनका कहना था कि ओमप्रकाश शांडिल्य को रिटायर हुए समय हो गया है। उनका पेंशन प्रकरण बाबू ने अभी तक तैयार नहीं किया। उसे रिमाइंडर भी दिया गया है।

खबरें और भी हैं...