पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कार्रवाई:4 घंटे रैकी में बिताए, दोपहर 1.30 बजे चंबल राजघाट पर पहुंचा फोर्स...देखकर भागा रेत माफिया

मुरैना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कार्रवाई से पहले वन मंडल व पुलिस विभाग के अफसरों ने हाईवे पर इतना स्वांग किया कि रविवार को चंबल राजघाट पर जमे रेत कारोबारी वहां से सुरक्षित भाग निकलने में सफल हो गए। दोपहर 1.30 बजे घाट पर पहुंचे टास्क फोर्स ने जेसीबी मशीनों से डंप रेत फैलाया और 25 गाड़ियां बैरंग मुरैना आ गईं। चंबल में बड़े पैमाने पर रेत के खनन व परिवहन का मामला पुलिस महानिदेशक तक पहुंच गया है।  रविवार को चंबल राजघाट पर सुबह के दौरे में 100 से ज्यादा ट्रैक्टर-ट्राॅली, जेसीबी मशीन व लोडर ट्रैक्टर, रेत को खोदने व भरने के  लिए वहां पहुंचे थे। राजघाट पर रेत खोदे जाने की पुष्टि वनमंडल अधिकारी से की गई लेकिन सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी, देवरी घड़ियाल केन्द्र से राजघाट की ओर बढ़ने का साहस नहीं जुटा सके। जबकि डीएफओ ने रविवार की सुबह 9 बजे 50 से 60 अधिकारी-कर्मचारियों को कार्रवाई के लिए ईको सेंटर पर बुला लिया था।

दोपहर 1 बजे कोतवाली, स्टेशन रोड व सिविल लाइन थाने का फोर्स, सरायछोला थाना पहुंचा तब जाकर वन विभाग व पुलिस की 25 से 30 गाड़ियां दोपहर 1.30 बजे चंबल राजघाट पर पहुंची। तब तक रेत कारोबारी जेसीबी, हाइड्रा व ट्रैक्टर-ट्राली लेकर वहां से भाग निकलने में सफल हो गए। टास्क फोर्स ने किराए की 2 जेसीबी मशीन चलवाकर चंबल नदी के किनारे डंप किए गए रेत को फैलवाया। लेकिन मौके से रेत का एक भी वाहन पकड़कर थाने नहीं ला सके। 

सुबह की कार्रवाई की दोपहर में 
वन मंडल अधिकारी की सूचना पर शहर के 3 थानों का फोर्स रविवार की दोपहर 1 बजे थाना सरायछोला पर एकत्रित हुआ तो इसकी सूचना चंबल राजघाट पर पहुंच गई। पुलिस ने जब तक नूराकुश्ती शुरू की तब तक रेत कारोबारी अपने वाहनों को लेकर राजघाट से अपने गांवों के लिए निकल लिए।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज पिछली कुछ कमियों से सीख लेकर अपनी दिनचर्या में और बेहतर सुधार लाने की कोशिश करेंगे। जिसमें आप सफल भी होंगे। और इस तरह की कोशिश से लोगों के साथ संबंधों में आश्चर्यजनक सुधार आएगा। नेगेटिव-...

और पढ़ें