पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Morena
  • The Seized Tractor Trolley Was Taken Away By The Mafia, The Gun Placed On The Chest Of The Forest Guard, The Forest Staff Carried The Hostage Partner Of The Mafia Forward, Then The Life Was Saved

वन अमले पर माफियाओं ने की फायरिंग:जब्त ट्रेक्टर ट्राली छुड़ा ले गए माफिया, फोरेस्ट गार्ड की छाती पर रखी बंदूक, वन अमले ने माफिया के बंधक साथी को किया आगे, तब बची जान

मुरैना24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फायरिंग करता माफिया - Dainik Bhaskar
फायरिंग करता माफिया
  • एसडीओ का आरोप उनकी सुरक्षा में लगे पुलिस वालों ने नहीं जाने दिया वन अमले के पास, गाड़ी में बैठाए रहे उनको

गश्ती पर गए वन विभाग के अमले पर आज, रेत माफियाओं ने हमला बोल दिया। रेत माफियाओं ने वन अमले पर ताबड़तोड़ फायरिंग की। यह हमला तब हुआ जब वन अमले ने अवैध रेत से भरी ट्रेक्टर ट्राली को पकड़ लिया था। रेत माफियाओं ने फायरिंग की तथा वन अमले द्वारा जब्त ट्रेक्टर ट्राली को छुड़ा ले गए। घटना किशनपुर गांव की है।

हमेशा की तरह वन अमला एसडीओ श्रद्धां पाढ़रे के नेतृत्व में रेत माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही करने गश्त पर निकला था। किशनपुर गांव के पास वन अमले ने एक ट्रेक्टर ट्राली को पकड़ लिया। वन अमले ने ट्रेक्टर ट्राली चालक को मौके पर पकड़कर बंधक बना लिया था। चालक का नाम कल्ली गुर्जर है। वन अमला उस ट्रेक्टर ट्राली व चालक को लेकर आ रहा था, तभी किशनपुर गांव की शुरुआत में ही खेत में छिपे बैठे रेत माफियाओं ने वन अमले पर हमला कर दिया। चारों तरफ से फायरिंग होने लगी। वन अमला अचानक इस हमले के लिए तैयार नहीं था। अमले के जवान गाड़ी से उतर कर सड़क के किनारे लेट गए तथा जवाबी फायरिंग की। उसी वक्त रेत माफिया जो कि संख्या में लगभग आधा दर्जन थे, आए और रेत से भरी ट्रेक्टर ट्राली, जो कि वन अमले के कब्जे में थी, उसे छुड़ा कर ले गए।
कल्ली गुर्जर को किया सामने, वरना मारे जाते जवान
वन अमले के पास चालक कल्ली गुर्जर था। उसी वक्त जिस गाड़ी में कल्ली गुर्जर बैठा था, रेत माफिया पहुंचे और फॅारेस्ट गार्डों के सीने पर बंदूक रख दी। फॉरेस्ट अमले ने कल्ली गुर्जर को आगे कर दिया तथा कहा कि अगर तुमने हमें मारा तो हम कल्ली गुर्जर को मार देंगे। अपने आदमी की जान जाते देख रेत माफिया पीछे हट गए और भाग गए।

थाने में एसडीओ
थाने में एसडीओ

सुरक्षा गार्डों ने नहीं किया सहयोग
एक तरफ वन अमले पर फायरिंग हो रही थी। दूसरी तरफ एसडीओ को पुलिस द्वारा दिया गया सुरक्षा गार्ड का दल उन्हें जबरन गाड़ी में ही बैठाए रखे रहा। इस बात को स्वयं एसडीओ श्रद्धा पांढ़रे ने कहा। उन्होंने कहा कि हमारे अमले पर फायरिंग हो रही थी लेकिन हमारी मजबूरी थी कि हम उनके पास जा तक नहीं सकते थे। हमें सुरक्षा गार्डों ने जाने नहीं दिया। जब हमने कहा कि उनकी जान खतरे में है तो वह बोले कि हमें आपकी सुरक्षा की जिम्मेदारी मिली है न कि आपके वन अमले की।
स्टेशन थाने में लिखाई रिपोर्ट
वन अमले के साथ हुई फायरिंग की रिपोर्ट एसडीओ पांढ़रे ने स्टेशन रेड थाने में दर्ज कराई है। उन्होंने कहा कि हमें आज, इस बात को बेहद खेद है कि हमारे जवानों पर फायरिंग हो रही थी लेकिन हम उनकी मदद करने नहीं जा पा रहे थे। हमारी सुरक्षा में लगे गार्डों ने उनकी कोई मदद नहीं की।

पकड़ा गया चालक कल्ली गुर्जर
पकड़ा गया चालक कल्ली गुर्जर

कहते हैं पुलिस अफसर
एसडीओ को टॉस्क फोर्स के साथ संयुक्त रुप से कार्यवाही करना चाहिए। छिटपुट कार्यवाही से उनकी जान को खतरा है। जहां तक सुरक्षा गार्डों द्वारा उनके वन अमले का सहयोग न करने की बात है। इस पर मैं अमले के अधिकारी से बात करूंगा।
रायसिंह नरवरिया, एडिशनल एसपी, मुरैनानक्सलियों को हथियार सप्लाई करने वाले 8 लोग पकड़े:मध्यप्रदेश, छग और महाराष्ट्र में नक्सलियों को भेजते थे हथियार और विस्फोटक, पढ़े-लिखे लोगों का ब्रेन वॉश भी करते थे

खबरें और भी हैं...