• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Morena
  • The Warning Of The Movement, Said That Our Comrades Were Attacked By A Hundred Villagers, Wrongly Registered A Murder Case, A Magisterial Inquiry Should Be Conducted Into The Matter

वनकर्मियों के बचाव में उतरा विभाग:दी आन्दोलन की चेतावनी,कहा हमारे साथियों को एक सैकड़ा ग्रामीणों ने घेर कर हमला किया, गलत दर्ज किया हत्या का प्रकरण, कराई जाए मामले की मजिस्ट्रियल जांच

मुरैनाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्ट्रेट  पर एकत्रित सभी वन कर्मचारी - Dainik Bhaskar
कलेक्ट्रेट पर एकत्रित सभी वन कर्मचारी
  • मामला, दो दिन पूर्व अमोलपुरा में वनकर्मियों की गोली से ग्रामीण की मौत का
  • डीएफओ के नेतृत्व में लगभग एक सैकड़ा वनकर्मियों ने मजिस्ट्रियल जांच की मांग कर सौंपा ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम संयुक्त कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

हमारे साथियों ने अमोलपुरा में ग्रामीण की हत्या नहीं की है। उन पर झूठा प्रकरण दर्ज किया गया है। अमोलपुरा के लोगों ने हमारे साथियों को घेर लिया था। उन पर फायरिंग की। उनके हथियार छीन रहे थे। आरक्षकों की गोली से ग्रामीण की मौत नहीं हुई है। राजनैतिक दवाब में हत्या का झूठा प्रकरण दर्ज कराया गया है। इस मामले की निष्पक्ष मजिस्ट्रियल जांच कराई जाए। अगर जांच नहीं होती है तो, सभी वनकर्मी आन्दोलन करेंगे। यह बात आज, वनकर्मियों ने संयुक्त कलेक्टर संजीव जैन को ज्ञापन सौंपते हुए कही।

अमोलपुरा में वन कर्मियों की गोली से ग्रामीण की हत्या के मामले में नया मोड़ आ गया है। अपने साथियों के बचाव में सभी वनकर्मी मैदान में कूद पड़े हैं। आज, डीएफओ अमित निकम के नेतृत्व में सभी वनकर्मी कलेक्ट्रेट पहुंचे। वनकर्मियों ने अपने साथियों पर दर्ज कराए प्रकरणों की मजिस्ट्रियल जांच की मांग की है।

संयुक्त कलेक्टर को ज्ञापन सौंपते कर्मचारी
संयुक्त कलेक्टर को ज्ञापन सौंपते कर्मचारी

हमारे साथियों पर झूठा प्रकरण किया है दर्ज
वन्य प्राणी कर्मचारी संघ के संभागीय अध्यक्ष विमल शर्मा ने बताया कि उनके साथियों पर झूठा प्रकरण दर्ज कराया गया है। यह प्रकरण राजनैतिक दवाब में कराया गया है। हमारे साथियों की किसी से दुश्मनी नहीं थी। वह हर दिन की तरह उस दिन भी गश्त पर गए थे। इसी दौरान उन्हें अवैध रेत का ट्रेक्टर मिला। वन अमले ने ट्रेक्टर ट्राली का पीछा किया। ट्रेक्टर चालक अमोलपुरा में ट्रेक्टर ले गया। वहां खेत में उसको अमले ने पकड़ लिया था। वे ट्रेक्टर ट्राली को जब्त कर ला रहे थे। उसी दौरान अमोलपुरा के लगभग एक सैकड़ा ग्रामीणों ने अमले को चारों तरफ से घेर लिया। उन पर हमला किया। फायरिंग की। इसी दौरान एक गोली महावीर सिंह तोमर को लग गई। मामला बिगड़ता देख अमला शासकीय गाड़ी छोड़कर भाग आया। हमारे कर्मचारियों पर लगे आरोपों की मजिस्ट्रियल जांच की जाए। अगर जांच नहीं की जाती है तो हम लोग आन्दोलन करेंगे।

वन्य कर्मचारी संघ के संभागीय अध्यक्ष विमल शर्मा
वन्य कर्मचारी संघ के संभागीय अध्यक्ष विमल शर्मा

हमारी किसी से कोई दुश्मनी नहीं
हम शासकीय कर्मचारी हैं। हमारी किसी से व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं होती है। उस दिन भी यही हुआ था। अमला, अपना काम कर रहा था। उसको घेरकर मारने की कोशिश की गई। हम मजिस्ट्रियल जांच की मांग करते हैं। अगर मांग नहीं मानी तो अपने वर्दी व हथियार जमा करके धरने पर बैठ जाएंगे।
शेलेन्द्र सिंह सिकरवार, संभागीय उपाध्यक्ष,वन्य प्राणी कर्मचारी संघ

कर्मचारी संघ के संभागीय उपाध्यक्ष शेलन्द्र सिकरवार
कर्मचारी संघ के संभागीय उपाध्यक्ष शेलन्द्र सिकरवार

कहतेे हैं डीएफओ
हमने कलेक्टर साहब से मजिस्ट्रियल जांच की मांग की है। उन्होंने हमारी मांग मानने के लिए आश्वस्त किया है। हमारे कर्मचारियों पर झूठा प्रकरण दर्ज नहीं होना चाहिए था।
अमित निकम, डीएफओ