गाय को किनारे करने के चक्कर में गई जान:युवक अपनी गाय को किनारे कर रहा था, इसी बीच ट्रक ने मारी टक्कर, मौत, ग्रामीणों ने तीन घंटे तक लगाया जाम

मुरैना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लाश के पास बैठे परिजन। - Dainik Bhaskar
लाश के पास बैठे परिजन।
  • तीन घंटे तक लगा रहा जाम, मौके पर नहीं पहुंचा कोई प्रशासनिक अधिकारी

माता बसैया थाने से महज 500 मीटर दूरी पर एक युवक की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। युवक खेड़ा गांव का है। वह अपने घर के सामने सड़क पार कर रहा था। उसी दौरान एक ट्रक तेजी से आया और युवक को कुचलकर चला गया। घटना सोमवार की सुबह की है। घटना के बाद गांव के लोगों ने वहां जाम लगा दिया। ग्रामीण युवक के आश्रितों के लिए मुआवजे की मांग कर रहे थे। लेकिन तीन घंटे तक जाम लगा रहने के बावजूद कोई प्रशासनिक अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा। बाद में जाम खोल दिया गया। यहां बता दें कि मृतक दिनेश पुत्र रामहेत जाटव (42) निवासी खेड़ा गांव सुबह अपनी गाय को सड़क के किनारे ले जाना चाह रहा था। उसका घर सड़क के बगल में ही बना हुआ है। वह गाय को किनारे ले जाने के लिए सड़क पार कर रहा था। उसी दौरान तेजी से आता एक ट्रक उसे कुचलता हुआ निकल गया। दुर्घटना इतनी भीषण थी कि युवक की मौके पर ही मौत हो गई।

मौके पर युवक की लाश
मौके पर युवक की लाश

जाम में फंसी रही एंम्बूलेंस
यह हादसा नेशनल हाईवे क्रमांक-552 अंबाह रोड पर हुआ है। इस रोड पर भिण्ड, अंबाह, पोरसा के अस्पतालों से मरीज मुरैना जिला अस्पताल व ग्वालियर के लिए जाते हैं। सुबह के समय जाम लगने से कुछ एम्बूलेंस भी जाम में फंसी रही। जाम लगभग तीन घंटे तक लगा रहा, इसके बावजूद कोई भी प्रशासनिक अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा। बाद में लोगों के कहने पर ग्रामीणों ने जाम खोल दिया।

सड़क पर लगा जाम
सड़क पर लगा जाम

दो बेटी व एक बेटा है
यहां बता दें, कि मृतक दिनेश जाटव के तीन बच्चे हैं। उसके दो बेटी व एक बेटा है। दिनेश अपने परिवार में अकेला कमाने वाला था। वह मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार का पालन पोषण करता था। लोगों का कहना था कि उसके चले जाने के बाद अब उसके परिवार का पालन पोषण कौन करेगा। इसी वजह से लोग धरना दे रहे थे कि अगर प्रशासनिक अधिकारी मौके पर आकर कुछ आर्थिक मुआवजा दे जाते तो उसके परिवार को कुछ सहायता मिल जाती।

खबरें और भी हैं...