पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Morena
  • Three Years Ago, The Video Of Municipal Accountant Santosh Sharma Taking A Bribe Went Viral, The Officers Did Not Take The Action Of Dismissal But Did The Food Supply Only By Transfer

जानिए, मुरैना के भ्रष्ट अफसर के बारे में:4 साल पहले अकाउंट अफसर का घूस लेते वीडियो सामने आया था, भिंड ट्रांसफर कर मामला दबाया, 1 साल में मुरैना वापस आ गया

मुरैना4 दिन पहले

मुरैना नगर निगम के अकाउंट ऑफिसर संतोष शर्मा के 3 ठिकानों पर लोकायुक्त छापे में करोड़ों की संपत्ति मिली है। संतोष के खिलाफ पहले भी भ्रष्टाचार का मामला सामने आ चुका है। 4 साल पहले इस पद पर रहने के दौरान घूस लेते उसका वीडियो सामने आया था, लेकिन अफसरों ने कोई कार्रवाई नहीं की। अपनी रसूख की वजह से वह बच गया और सिर्फ भिंड ट्रांसफर करके मामला रफा-दफा कर दिया गया। भिंड में वह CMO बनकर गया था। यहां एक साल बिताने के बाद मुरैना नगर निगम में ही वापस अकाउंट ऑफिसर पद पर पोस्टिंग करा ली थी।

संतोष शर्मा का 2017 में रिश्वत लेने का वीडियो वायरल हुआ था। वीडियो में संतोष शर्मा 500-500 रुपए के नोटों के रुप में रिश्वत ले रहा था। संतोष शर्मा ने उससे और पैसे मांगने के लिए हाथ बढ़ाया तो उसने हाथ जोड़ लिए और पैर छू लिए थे। उस समय संतोष शर्मा मुरैना में ही अकाउंट अफसर के पद पर कार्यरत था।

तत्कालीन निगमायुक्त DS परिहार व तत्कालीन कलेक्टर विनोद शर्मा के सामने यह मामला जब आया तो उन्होंने केवल एक नोटिस जारी करके खानापूर्ति कर दी। मामला दबाने के लिए संतोष शर्मा का भिंड ट्रांसफर कर दिया था।

संतोष शर्मा का मुरैना में बंगला।
संतोष शर्मा का मुरैना में बंगला।

8 बैंक खातों में जमा 46 लाख रुपए
लोकायुक्त SP संजीव सिन्हा ने बताया कि संतोष शर्मा के कुल आठ बैंक खाते हैं। इनमें लगभग 46 लाख रुपए जमा हैं। कुछ लॉकरों की जानकारी मिली है। इन्हें जल्द ही खोला जाएगा। अवकाश का दिन होने के कारण इसका सही पता नहीं लग सका है। लगभग सवा 300 ग्राम सोना मिला है। प्लॉट की रजिस्ट्री मिली है। कार्रवाई अभी 4 से 5 दिन चलेगी। इसके बाद भी पूरी संपत्ति का पता चल सकेगा।

मुरैना में अफसर निकला करोड़पति:नगर निगम के अकाउंट अफसर के 3 ठिकानों पर लोकायुक्त का छापा; 8 लाख कैश, जेवर और प्रॉपर्टी के कागजात मिले, बंगला ही 3 करोड़ का

दो माह पहले की गई थी शिकायत
लोकायुक्त SP संजीव सिन्हा ने बताया कि दो माह पहले इनके खिलाफ भ्रष्टाचार किए जाने की शिकायत की गई थी। शिकायत के बाद इनके खिलाफ जांच की गई। जांच में शिकायत सही पाई गई, जिसके बाद भ्रष्टाचार किए जाने की FIR दर्ज की गई थी। उसके बाद यह कार्रवाई की गई है।

खबरें और भी हैं...