घरेलू महिला हिंसा पर सेमीनार का आयोजन:घरेलू महिला हिंसा की शिकायत प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट के समक्ष प्रस्तुत करे पीड़िता

मुरैना19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घरेलू महिला हिंसा पर सेमीनार को संबोधित करते प्राचार्य डा. सीएल गुप्ता। - Dainik Bhaskar
घरेलू महिला हिंसा पर सेमीनार को संबोधित करते प्राचार्य डा. सीएल गुप्ता।
  • पीजी कॉलेज में घरेलू महिला हिंसा पर आयोजित सेमीनार में रुचिरा गर्ग ने कहा

घरेलू हिंसा के दायरे में अनेक प्रकार की हिंसा और दुर्व्यवहार आते हैं। किसी भी घरेलू संबंध या नातेदारी में किसी प्रकार का व्यवहार, आचरण या बर्ताव जिससे आपके स्वास्थ्य, सुरक्षा, जीवन, या किसी अंग को कोई क्षति पहुंचती है, या मानसिक या शारीरिक हानि होती है घरेलू हिंसा की परिभाषा में आता है। पीड़िता इसकी शिकायत प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट के समक्ष प्रस्तुत करने का अधिकार रखती है। यह बात सेमीनार की मुख्यवक्ता रुचिरा गर्ग एडवोकेट ने कही।

अधिवक्ता रुचिरा गर्ग, गुरुवार को एक्सीलेंस पीजी कॉलेज में घरेलू महिला हिंसा पर आयोजित सेमीनार को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि शारीरिक दुर्व्यवहार अर्थात शारीरिक पीड़ा, अपहानि या जीवन या अंग या स्वास्थ्य को खतरा या लैगिंग दुर्व्यवहार अर्थात महिला की गरिमा का उल्लंघन, अपमान या तिरस्कार करना या अतिक्रमण करना या मौखिक और भावनात्मक दुर्व्यवहार अर्थात अपमान, जिसकी वह हकदार है, से वंचित करना,मानसिक रूप से परेशान रना ये सभी घरेलू हिंसा कहलाते हैं।

खबरें और भी हैं...