पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Morena
  • When Baba Became Ill, The Grandson Went To Graze The Buffalo, When He Was Thirsty, He Went To The River Bank, Slipped His Feet, Drowned, Died.

मुरैना में एक लड़का नदी में डूबा, मौत:बाबा के बीमार हो जाने पर नाती भैंस चराने गया, प्यास लगी तो नदी के घाट पर गया, पैर फिसला, डूबने से मौत

मुरैना9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लड़के प्रेम सिंह की लाश। - Dainik Bhaskar
लड़के प्रेम सिंह की लाश।

अंबाह के दिमनी क्षेत्र में एक किशोर की नदी में डूबने से मौत हो गई। किशोर पानी पीने के लिए क्वारी नदी के कमतरी घाट पर गया था। पानी पीने के लिए जैसे ही वह झुका, उसका पैर फिसल गया। पैर फिसलते ही वह नदी में जा गिरा। देखते ही देखते वह डूब गया। उसके साथ वालों ने दौड़कर उसके घरवालों को खबर की। घर वाले दौड़े-दौड़े आए, साथ में पूरा गांव दौड़ पड़ा। किशोर की लाश खोजी गई। 3 घंटे की मेहनत के बाद लाश को निकाला जा सका। लाश का पीएम अंबाह में किया जा रहा है। अपने नाती की लाश को देखकर उसका बाबा दुलारे कुशवाह यह कहते हुए रो रहे है कि काश वह बीमार नहीं पड़ता तो उसके नाती को न भैंस चराने आना पड़ता और न वह नदी में डूबता। घटना रविवार दोपहर 2 बजे की है।

मृतक प्रेम सिंह
मृतक प्रेम सिंह

यहां बता दें कि मृतक प्रेम सिंह पुत्र मुकेश कुशवाह, उम्र 16 वर्ष, निवासी धुवाटी गांव, दसवीं का छात्र था। वह भैंस चराने नहीं जाता था। भैंस उसके बाबा दुलारे कुशवाह चराने जाते थे। आज, रविवार का दिन था। वह स्कूल नहीं गया था। बाबा की तबीयत खराब होने पर बाबा बोले कि आज बेटा तू ही भैंसों को चरा ला। वह बाबा का कहना मानकर भैंसों को लेकर जंगल में चला गया। वह गांव से करीब डेढ़ किलोमीटर दूर कमतरी के जंगल में भैंसों को ले गया।

भैंस चराने के दौरान उसे जोर से प्यास लगी। प्यास लगने पर वह कमतरी हनुमान मंदिर के नीचे बने पटियों वाले घाट पर पानी पीने चला गया। वह अभी पानी पी ही रहा था कि अचानक उसका पैर फिसल गया। पैर फिसलते ही वह सीधा नदी में जा गिरा। नदी में गिरते ही वह गोते खाने लगा। देखते ही देखते वह नदी में डूब गया। उसके साथ वालों ने जब उसे नदी में डूबते देखा तो तुरंत दौड़कर उसके घरवालों को खबर की।

परिजन व पूरे गांव वाले उसे बचाने के लिए दौड़ पड़े। गांव वालों ने उसे खोजने की कोशिश की लेकिन वह नहीं मिला। उसके बाद गांव के ही कुछ गोताखोरों ने उसे निकालने की कोशिश की तब कहीं तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद उसकी लाश को निकाला जा सका।

मौके पर मौजूद पुलिस
मौके पर मौजूद पुलिस

गतवर्ष एक लड़की भी बह चुकी घाट पर
गांव के सरपंच राजेश माहौर ने बताया कि इस घाट पर कई लोगों की फिसलने के कारण मौत हो चुकी है। पिछले वर्ष एक छोटी बच्ची की भी मौत हो चुकी है। बच्ची भैंस चराने गई थी। वह पानी पीने गई थी। वह पानी पी रही थी कि उसका पैर फिसल गया था और वह उसमें डूब गई थी। डूबने के बाद बच्ची का शव कई किलोमीटर दूर कुतवासा गांव के पास मिला था।

मजदूरी करते हैं पिता
बता दें कि मृतक किशोर प्रेम सिंह के पिता मजदूरी करते हैं। तंगहाली के बावजूद वह अपने दोनों बेटों को पढ़ा रहे हैं। उनके दो बेटे हैं। प्रेमसिंह उनका बड़ा बेटा था। उसी से उनकी उम्मीदें लगी थीं। लेकिन इस घटना ने उनकी सारी उम्मीदों व आशाओं पर पानी फेर दिया।

सरपंच राजेश माहौर
सरपंच राजेश माहौर

अपने आपको कोस रहे बाबा
मृतक के बाबा दुलारे कुशवाह बार-बार अपने आपको कोस रहे हैं। वह कह रहे हैं कि वह कौन सी घड़ी थी जब उनके मुंह से निकला था कि आज बेटा, तू ही भैंसो को चरा ला। बाबा का रो-रोकर बुरा हाल है। वहीं घर के अन्य सदस्यों का भी बुरा हाल है।

खबरें और भी हैं...