• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • 15 Lakhs Were Found On The Death Of Grandfather, Murdered In The Forest And Threw The Dead Body, Asked For 5 Lakhs By Calling

15 लाख रुपए के लालच में साले का मर्डर:कर्ज चुकाने के लिए जीजा ने अगवा कर गला घोंटा, क्राइम पेट्रोल देख रची साजिश

ग्वालियर2 महीने पहले

ग्वालियर में बुजुर्ग की मौत के बाद मिले 15 लाख रुपए देखकर परिवार का दामाद लालच में आ गया। वह साले को घुमाने के बहाने जंगल में अगवा कर ले गया। यहां गला घोंट कर हत्या कर दी। इसके बाद शव को जंगलों में फेंक दिया। साले के मोबाइल से परिवार वालों को फोन कर 5 लाख रुपए फिरौती मांगी।

जांच के बाद पुलिस ने कुछ ही घंटों में शव बरामद कर आरोपी को दबोच लिया है। घटना भितरवार थाना क्षेत्र के वार्ड क्रमांक 9 रावत कॉलोनी की है। आरोपी बुआ का दामाद है। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि क्राइम पेट्रोल देखकर उसने हत्या की साजिश रची थी।

एएसपी देहात जयराज कुबेर ने बताया कि भितरवार में रहने वाला पुष्पेन्द्र रावत (17) मंगलवार सुबह घर से निकला था। उसके बाद वह देर रात तक वापस नहीं आया, तो परिजनों ने तलाश की। बुधवार शाम करीब 5 बजे पिता के मोबाइल नंबर से कॉल आया।

कॉलर ने पुष्पेन्द्र को जान से खत्म करने की धमकी देकर 5 लाख रुपए की फिरौती मांगी। फिरौती का कॉल आते ही परिजन थाने पहुंचे और मामले की शिकायत की। मामले का पता चलते ही वरिष्ठ अफसर भी मौके पर पहुंचे और जांच पड़ताल में जुट गए।

18 घंटे में खुलासा
जांच में जब पुलिस ने घर से निकलने के बाद कड़ियां मिलाईं तो पता चला कि आखिरी बार वह दिनेश रावत के साथ देखा गया था। साथ ही, पता चला कि दिनेश पुष्पेन्द्र की बुआ का दामाद है। पता चलते ही पुलिस ने दिनेश को पकड़कर पूछताछ की, तो उसने गुनाह कबूल कर लिया।

फिरौती के रुपयों से चुकाने वाला था कर्ज
पूछताछ में आरोपी ने बताया कि कुछ माह पूर्व पुष्पेन्द्र के बाबा का देहांत हुआ था। पुष्पेंद्र के बाबा बिजली कंपनी में कर्मचारी थे। परिवार को सहायता के रूप में 15 लाख रुपए मिले थे। रुपयों के लालच में वह पुष्पेन्द्र को नरवर किला और मड़ीखेड़ा डैम घुमाने का झांसा देकर ले गया। जंगल में उसकी हत्या कर दी।

आरोपी ने पुलिस को बताया कि उसके ऊपर सट्टे के चलते कर्ज हो गया था। कर्ज चुकाने के लिए उसने पुष्पेंद्र का अपहरण किया था, ताकि फिरौती वसूल कर कर्ज चुका सके। पुलिस ने मड़ीखेड़ा से पुष्पेन्द्र का शव बरामद कर आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है।

पहचाने जाने के डर से मार डाला
दिनेश ने पुष्पेंद्र का अपहरण करने के बाद उसके परिवार वालों से फिरौती मांगी। उसे यह डर भी था कि पुष्पेंद्र जैसे ही परिजनों के पास पहुंचेगा, सबको बता देगा कि अपहरण किसने किया था। इसी के चलते दिनेश ने उसे मार डाला। लाश पटी घाटी के जंगल में फेंक दी, ताकि उसे जंगली जानवर खा जाएं।

पूछताछ में आरोपी ने पुलिस को बताया कि उसने टीवी पर क्राइम पेट्रोल देख हत्या की साजिश रची थी। वहीं से वारदात करने का तरीका भी सीखा। इसके बाद वारदात को अंजाम दिया।