MP-UP के बीच बस संचालक 23 तक नहीं:ग्वालियर से UP के शहरों के लिए चलती हैं 150 बसें, परिवहन बंद होने से बढ़ी टैक्सी की मांग, वसूल रहे मनमाना किराया

ग्वालियर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्टैंड पर खड़ी बसें। - Dainik Bhaskar
स्टैंड पर खड़ी बसें।
  • हर दिन 10 हजार यात्री अंचल से यूपी के लिए जाते हैं

परिवहन विभाग ने MP-UP के बीच बस संचालन के प्रतिबंध को अब 23 मई तक बढ़ा दिया है। दूसरी बार ऐसा हुआ है जब दोनों प्रदेशों के बीच बस संचालक के प्रतिबंध को आगे बढ़ाया गया है, जबकि छत्तीसगढ और महाराष्ट्र के लिए भी बस सेवा स्थगित है। इससे हर दिन ग्वालियर अंचल के 10 हजार से ज्यादा लोग प्रभावित हो रहे हैं।

ग्वालियर अंचल से UP के विभिन्न 30 शहरों के बीच करीब 125 से 150 बसें चलती हैं। जिसमें हर दिन दोनों ओर से हजारों की संख्या में लोग सफर करते हैं। बसों का संचालक नहीं होने से प्राइवेट टैक्सी की डिमांड बढ़ गई है। टैक्सी वाले मनमाना किराया वसूल रहे हैं। यहां तक कि लोग झांसी, आगरा, इटावा से आने वाली एम्बुलेंस में भी सफर करने पर विवश हैं।

UP में तेजी से कोरोना का संक्रमण फैल रहा है। UP से बड़ी संख्या में यात्री मध्य प्रदेश में आते हैं। साथ ही यह संक्रमण भी लाएंगे इसलिए इससे MP के शहरों में भी संक्रमण का खतरा अधिक बढ़ जाएगा। इसे ध्यान में रखते हुए दोनों प्रदेशों के बीच बसों के संचालन पर प्रतिबंध लगाने की सहमति बनी थी। जिसके बाद मध्य प्रदेश परिवहन विभाग ने 29 अप्रैल से 7 मई तक के बीच बस संचालक पर रोक लगाई थी। इसके बाद इस प्रतिबंध को 7 मई से 15 मई के लिए बढ़ाया गया था। अब 15 मई को फिर नया आदेश जारी कर बस परिवहन सेवा को 23 मई तक के लिए प्रतिबंधित किया गया है।

हर दिन हजारों यात्री हो रहे परेशान

ग्वालियर-चंबल संभाग से उत्तर प्रदेश के झांसी, इटावा, लखनऊ, कानपुर, आगरा, उरई, मैनपुरी, अलीगढ़, सोरो, ललितपुर सहित अन्य जिलों के लिए बड़ी संख्या में बसें जाती हैं। ग्वालियर के अंतराज्यीय बस स्टैंड से बड़ी संख्या में झांसी, आगरा व इटावा से बसें आती भी हैं। ट्रेनों में सामान्य टिकट पर सफर बंद होने के कारण लोग बस से उत्तर प्रदेश आ और जा रहे थे। इसलिए हर दिन हजारों लोग बसों में सफर कर रहे थे। पर प्रतिबंध के बाद से लोग परेशान हैं।

टैक्सी वाले वसूल रहे मनचाहे दाम

जब से बस सर्विस MP-UP के शहरों के बीच बंद हुई है। टैक्सी चलाने वालों के मजे हो गए हैं। जिन्हें जरूरी काम से आना जाना है तो वह टैक्सी गाड़ियों को हायर कर रहे हैं। बसें बंद होने पर यह टैक्सी वाले भी मनचाहा किराया वसूल रहे हैं। उदाहरण के लिए जैसे ग्वालियर से झांसी के बीच की दूरी लगभग 100 किलोमीटर है। अभी तक 2000 रुपए में आना जाना हो जाता था, लेकिन अब टैक्सी वाले इसी दूरी के 2500 रुपए तक वसूल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...