• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • 20 Children On 12 Beds, There Is No Space In The Ward, So Adults Are Offering Drips Sitting On The Bench In The Gallery

जिला अस्पताल मुरार का हाल:12 बेड पर 20 बच्चे, वार्ड में जगह नहीं इसलिए वयस्क गैलरी में बेंच पर बैठकर चढ़वा रहे ड्रिप

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुरार जिला अस्पताल में वार्ड में जगह नहीं होने के कारण बेंच पर इलाज कराते मरीज। - Dainik Bhaskar
मुरार जिला अस्पताल में वार्ड में जगह नहीं होने के कारण बेंच पर इलाज कराते मरीज।
  • डेंगू और वायरलजनित बीमारियाें के कहर से चरमराईं स्वास्थ्य सेवाएं

डेंगू और वायरलजनित बीमारियाें के कहर से स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गईं हैं। जयारोग्य और कमलाराजा चिकित्सालय की तरह जिला अस्पताल में भी स्थिति चिंताजनक है। जहां बेड फुल होने से मरीजाें को फ्लोर पर भर्ती करना पड़ रहा है। यहां मंगलवार काे 12 बेड के पीडियाट्रिक वार्ड में 20 बच्चे भर्ती थे।

चूंकि मेडिसिन वार्ड को आईसीयू में बदला जा रहा है, इसलिए वयस्क मरीजाें के लिए सिर्फ 10 बेड का वार्ड बचा है। जगह कम हाेने के कारण मंगलवार को यहां मरीजाें काे उस बेंच पर भर्ती किया गया, जाे ओपीडी में दिखाने आए मरीज के बैठने के लिए हैं। कुछ लाेग यहां लेटकर ताे कुछ बैठकर इलाज लेते दिखे।

एक युवती और एक महिला को डॉक्टर ने भर्ती कर बोतल चढ़ाने के लिए लिखा था। जब बेंच पर लेटने की जगह नहीं मिली तो दाेनाें बैठे-बैठे ही ग्लूकोज की बोतल चढ़वा रहीं थीं। सिविल सर्जन डॉ. डीके शर्मा ने कहा, आईसीयू का काम अंतिम चरण में है। पीडियाट्रिक आईसीयू का काम भी चल रहा है। दाेनाें के लिए जरूरी उपकरण की डिमांड पूर्व में ही शासन को भेजी जा चुकी है।

आईसीयू अगले माह हो सकता है शुरू, पीडियाट्रिक आईसीयू का काम धीमा

जिला अस्पताल में आईसीयू का काम अंतिम चरण में है। इसे अगले महीने शुरू किया जा सकता है। इसके लिए उपकरण एवं बेड की मांग भेजी गई है, लेकिन पीडियाट्रिक आईसीयू का काम धीमी गति से चल रहा है। यहां अभी बिजली फिटिंग चल रही है। फाॅल्स सीलिंग का काम बाकी है। जिस हिसाब से काम चल रहा है उसे देखकर कहा जा रहा है कि अगले महीने भी इसे शुरूकरना मुश्किल है। इसकी एक वजह ये भी है कि यहां उपकरण तो दूर अभी बेड भी नहीं आए हैं।

कल महाअभियान, फॉगिंग के लिए अब वाहनों को दो गुना डीजल मिलेगा

प्रशासन 30 सितंबर काे डेंगू-मलेरिया की राेकथाम के लिए महाअभियान चलाएगा। इस दाैरान शहर में घर-घर एवं चिह्नित इलाकाें में मच्छर एवं लार्वा काे नष्ट किया जाएगा। जिन घराें में लार्वा मिलेगा, उनके मालिकाें से जुर्माना भी वसूला जाए। यह निर्देश कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने मंगलवार को बाल भवन में संयुक्त बैठक में दिए।

उधर, निगमायुक्त किशोर कन्याल ने फॉगिंग कर रहे वाहनों के लिए डीजल और पेट्रोल की मात्रा दोगुना करने के आदेश दिए हैं। वहीं निगम के स्वास्थ्य अधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने बताया कि मंगलवार को डीडी नगर, मधुवन कॉलोनी, तानसेन नगर, सिंधी कॉलोनी सहित अन्य बस्तियों में फॉगिंग एवं कीटनाशक का छिड़काव किया। मलेरिया विभाग की टीम ने घरों में डेंगू के लार्वा का सर्वे किया।

खबरें और भी हैं...