पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • 2348 Women Of Villages Earned Rs 4 Crore 61 Lakh By Making 4 Lakh Masks, 9 Thousand PPE Kits And 1.25 Lakh School Uniforms During The Karena Period.

ग्रामीण महिलाओं ने आपदा में अवसर ढूंढ़ा:गांवों की 2348 महिलाओं ने काेराेना काल में 4 लाख मास्क, 9 हजार पीपीई किट व 1.25 लाख स्कूल यूनिफॉर्म बनाकर कमाए 4 करोड़ 61 लाख रुपए

ग्वालियर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मास्क बनाती समूह से जुड़ी एक महिला। - Dainik Bhaskar
मास्क बनाती समूह से जुड़ी एक महिला।
  • स्व-सहायता समूहाें से जुड़ीं महिलाओं को मटेरियल सरकारी विभागों ने कराया मुहैया

ग्वालियर जिले के गांवाें में सब्जी उत्पादन, पापड़, मसाला, झाडू निर्माण, रूई-बाती बनाने जैसे काम करने वाली गरीब महिलाओं ने काेराेना काल में आपदा में अवसर ढूंढ़ लिया। कोविड की पहली और दूसरी लहर में 2348 महिलाओं ने 4 लाख मास्क और 9 हजार पीपीई किट बनाईं। अब ये महिलाएं शासकीय प्राइमरी और मिडिल स्कूल के बच्चों के लिए सवा लाख यूनिफाॅर्म बना रही हैं। इसका 75% ऑर्डर भी पूरा कर लिया गया है। स्व-सहायता समूहाें से जुड़ीं महिलाएं ये महिलाएं अब तक 4.61 करोड़ रुपए कमा चुकी हैं। इन्हें मास्क, पीपीई किट व यूनिफाॅर्म बनाने के लिए मटेरियल सरकारी विभागों ने मुहैया कराया है।

महिलाएं मास्क, पीपीई किट और स्कूल यूनिफाॅर्म बना रही हैं
जिले में कुल 256 ग्राम पंचायतें हैं। इनमें से करीब 200 ग्राम पंचायतों की महिलाएं स्व-सहायता समूहों के माध्यम से मास्क, पीपीई किट और स्कूल यूनिफाॅर्म बनाने का काम कर रही हैं। डीआरडीओ का हैंड सेनेटाइजर को बेचने का काम भी इन्हीं के जिम्मे है।

किस काम से अब तक कितना पैसा मिला

  • 4 लाख मास्क के डेढ़ करोड़ का भुगतान हुआ।
  • 9 हजार पीपीई किट बनाने का 30 लाख रुपए का भुगतान हुआ।
  • 1.25 लाख स्कूल ड्रेस बनाने का ऑर्डर जब ये पूरा कर देंगी तो इन्हें 3 करोड़ 75 लाख का भुगतान होगा। 75% भुगतान हो गया है।

हर महिला अब 10 हजार रुपए महीने कमाने लगी है
^ जिले में 3100 स्व-सहायता समूहों से करीब 35000 महिलाएं जुड़ी हुई हैं। इनमें से 2348 महिलाओं ने कोविड के दौर में मास्क, पीपीई किट, स्कूल ड्रेस बनाने और डीआरडीओ के हैंड सेनेटाइजर को बेचने के काम में दिलचस्पी ली तो उससे इनकी आमदनी में इजाफा हुआ और पहले से चल रहे अन्य कार्यों के साथ मास्क, पीपीई किट बनाकर हर महिला की आमदनी करीब 10 हजार रुपए महीने तक हाेने लगी है।
- किशोर कान्याल, सीईओ, जिपं

खबरें और भी हैं...