पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • 6975 Active Cases, Increased 2477 In 5 Days, If Symptoms Do Not Show Up In 7 Days, Then Home Isolate Patients Will Be Considered Healthy

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना संक्रमण:6975 एक्टिव केस, 5 दिन में 2477 बढ़े, अब 7 दिन लक्षण न दिखे तो स्वस्थ माने जाएंगे होम आइसोलेट मरीज

ग्वालियर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बदलाव }पहले रिपोर्ट पॉजिटिव आने के 10 दिन बाद स्वस्थ माने जाते थे घरों में रह रहे मरीज

शहर में कोरोना संक्रमण के साथ ही एक्टिव केस की संख्या तेजी से बढ़ रही है। पिछले 5 दिन में 2477 एक्टिव केस बढ़े और सोमवार को ये 6975 हो गए। जबकि इस दौरान 1872 मरीज ही ठीक हुए। यही वजह है कि स्वास्थ्य विभाग ने होम आइसोलेट मरीजों के संबंध में नई गाइडलाइन बनाई है। इसमें कहा गया है कि जिन मरीजों में लगातार सात दिन तक संक्रमण के कोई लक्षण नहीं दिखेंगे, अब उन्हें स्वस्थ माना जाएगा और एक्टिव केसों की संख्या में से उन्हें हटा दिया जाएगा। इससे पूर्व होम आईसोलेट मरीजों को रिपोर्ट पॉजिटिव आने के 10 दिन बाद स्वस्थ माना जा रहा था। इसके संबंध में नेशनल हेल्थ मिशन की एमडी छवि भारद्वाज ने वीसी के दौरान निर्देश दिए। नई व्यवस्था सोमवार से लागू कर दी है।

मुक्तिधाम में 5 घंटे की वेटिंग: एक दिन में रिकॉर्ड 28 अंतिम संस्कार

लक्ष्मीगंज मुक्तिधाम में सोमवार को कोविड से मृत 28 लोगों के अंतिम संस्कार हुए। इस कारण उनके परिजन को घंटों प्रतीक्षा करनी पड़ी। सोमवार को सुपरस्पेशलिटी अस्पताल में भर्ती राजीव बुधौलिया का सुबह साढ़े छह बजे निधन हो गया। उनके परिजन राजीव शर्मा ने बताया कि शव ले जाने के लिए जो एंबुलेंस थी, वह दूसरे कोविड मृतकों को लक्ष्मीगंज मुक्तिधाम लेकर गई हुईं थी। इसलिए निजी एंबुलेंस से शव लेकर मुक्तिधाम पहुंचे। यहां पहले से खड़ी एंबुलेंस में कोविड मृतकों के शव रखे हुए थे। 5 घंटे बाद उनके मरीज का अंतिम संस्कार हो सका।

81 वर्ष की सेवानिवृत शिक्षिका तीन दिन में हुई डिस्चार्ज

कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के बीच सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल से सुखद समाचार भी प्राप्त हो रहे हैं। ताजा उदाहरण 81 वर्षीय सेवानिवृत शिक्षिका का है। जो मात्र तीन दिन में ही अस्पताल से डिस्चार्ज होकर घर पहुंच गई। डॉक्टर संजय धवले ने बताया कि मरीज के परिजन ने 10 को रैपिड एंटीजन टेस्ट कराया था, जिसमें रिपोर्ट निगेटिव आई थी। चूंकि उन्हें बुखार आया था, इसलिए आरटीपीसीआर जांच कराई गई। 12 अप्रैल को रिपोर्ट में संक्रमण की पुष्टि हुई। शुरुआत में परिजन ने घर पर इलाज करवाया, लेकिन 16 अप्रैल को ऑक्सीजन लेवल 80 से नीचे चला गया। इस पर उन्हें भर्ती कराया गया। यहां इलाज मिलने के 12 घंटे के भीतर उनका ऑक्सीजन का स्तर 94 को पार कर गया। दो दिन स्थिति स्थिर रहने के कारण उन्हें सोमवार शाम को डिस्चार्ज कर दिया गया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें