पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • 8 year old Innocent Was Flying A Kite On The Roof, Suddenly The Foot Slipped And The Student Fell From The 4th Floor, Died

पतंग के साथ चली गई जिंदगी:छत पर पतंग उड़ा रहे 8 साल के बच्चे का अचानक पैर फिसला, चौथी मंजिल से गिरने से मौत

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
8 साल का देव, जिसकी छत से गिरने के कारण मौत हो गई। - Dainik Bhaskar
8 साल का देव, जिसकी छत से गिरने के कारण मौत हो गई।
  • सिंधिया नगर सरकारी मल्टी विश्वविद्यालय की घटना
  • गुरुवार शाम की घटना, देर रात अस्पताल में तोड़ दम

छत पर पतंग उड़ा रहे 8 साल के बच्चे का अचानक पैर फिसल गया जिससे वह चौथी मंजिल से नीचे गिर गया। गंभीर हालत में बच्चे को JAH (जयारोग्य अस्पताल) में भर्ती कराया गया, जहां देर रात उसने दम तोड़ दिया। घटना गुरुवार रात सरकारी मल्टी सिंधिया नगर की है। बच्चे की मौत की खबर से सिंधिया नगर में मातम पसर गया। पुलिस ने शव को निगरानी में लेकर जांच शुरू कर दी है।

विश्वविद्यालय क्षेत्र के सिंधिया नगर सरकारी मल्टी में रहने वाले अनिल कुमार डागौर निजी फर्म में काम करते हैं। परिवार में पत्नी संगीता और दो बेटे 8 वर्षीय देव डागौर, 5 साल का उमेश है। गुरुवार को अनिल ड्यूटी पर थे। शाम को बड़ा बेटा देव मां से पतंग उड़ाने जाने की कह कर मल्टी की चौथी मंजिल पर पहुंच गया।

वह छत पर पतंग उड़ा रहा था। इसी दौरान अचानक पैर फिसला और वह छत से नीचे गिर गया। बच्चे के गिरने की तेज आवाज आई। इस पर मल्टी में रहने वाले अन्य लोग बाहर आए। जमीन पर पड़ा देव खून से लथपथ था। उसे तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया।

बेहोशी की हालत में ही तोड़ दिया दम

छत से गिरने के बाद देव बेहोश हो गया था। अस्पताल में कुछ घंटे इलाज चला। बेहोशी की अवस्था में ही देव ने देर रात दम तोड़ दिया। अस्पताल की सूचना पर विश्वविद्यालय थाना पुलिस पहुंची। शव को निगरानी में लेकर डेड हाउस में रखवाया। शुक्रवार सुबह पोस्टमाॅर्टम कराया गया।

पतंग बचाते समय गिरा

पुलिस ने जब घटना स्थल के आसपास पड़ताल की, तो कुछ बच्चों ने बताया कि देव पतंग उड़ा रहा था। इसी समय उसकी पतंग के किसी से पेंच हो गए। एक पतंग कटी। अपनी पतंग को संभालने के चक्कर में वह तेजी से पीछे की ओर गया। इसी समय हादसे का शिकार हो गया।

पहली कक्षा में पढ़ता था

देव अपने मां-पिता को बहुत लाड़ला था। वह कक्षा एक में पढ़ता था। वह पढ़ाई के साथ-साथ अन्य एक्टिविटी में सक्रिय रहता था। यही कारण है कि उसकी मौत ने सिंधिया नगर को गम में डाल दिया है।

खबरें और भी हैं...