• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • A 40 bed Isolation Center To Begin Today In Huravali; Oxygen Will Be Provided Immediately From Buffer Stock

काेराेना से जुड़ी अच्छी खबरें:हुरावली में आज शुरू होगा 40 बेड का आइसोलेशन सेंटर; बफर स्टॉक से तत्काल की जाएगी ऑक्सीजन की व्यवस्था

ग्वालियर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ग्वालियर। कोरोना संक्रमण से जूझ रहे शहर में इससे निजात दिलाने के कुछ अच्छे प्रयास भी हो रहे हैं। संसाधनों की कमी दूर करने के लिए अच्छी पहल हो रही है ताकि संकटकाल में लोगों को राहत मिल सके।

हुरावली: आज शुरू होगा 40 बेड का आइसोलेशन सेंटर
कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए शहर के हुरावली क्षेत्र में 40 बिस्तर के आइसोलेशन सेंटर की शुरुआत शुक्रवार से हो जाएगी। पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल द्वारा जन सहयाेग से तैयार कराए जा रहे इस सेंटर में 25 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्था भी की गई है। श्री गोयल के अनुसार सेंटर में मरीजों की देखरेख के लिए डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ तैनात रहेगा। जरूरत पड़ने पर विशेषज्ञों की मदद भी ली जाएगी। सेंटर का उद्घाटन आरएसएस के प्रांत कार्यवाह यशवंत इंदापुरकर और सांसद विवेक नारायण शेजवलकर की उपस्थिति में हाेगा।

मेला मैदान में 20 दिन में बनेगा 500 बिस्तर का कोविड अस्पताल
ग्वालियर में 500 बिस्तर के नए कोविड अस्पताल के निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह एवं सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की बातचीत के बाद गुरुवार को प्रशासन ने डीआरडीओ के दिल्ली मुख्यालय काे एक पत्र भेजा है। अफसराें और विशेषज्ञों ने इस अस्पताल के लिए मेला मैदान को हर तरह से उपयुक्त मानकर यहां अस्पताल बनाने का प्रस्ताव तैयार किया है। दिल्ली से मंजूरी एवं बजट मिलते ही इस अस्पताल को लगभग 20 दिन में तैयार कर लिया जाएगा। मेला मैदान में पर्याप्त जगह होने के साथ ही पानी और बिजली की सुविधा मौजूद हैं। कोरोना आपदा से अत्यधिक प्रभावित शहरों में डीआरडीओ द्वारा ऐसे कोविड अस्पताल बनाए जा रहे हैं। दिल्ली और उत्तरप्रदेश में ऐसे दो अस्पताल बनाए गए हैं। इस अस्पताल में डॉक्टर एवं मेडिकल स्टाफ की तैनाती अलग से होगी।

बफर स्टॉक से तत्काल की जाएगी ऑक्सीजन की व्यवस्था
ग्वालियर स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन ने अस्पतालों में ऑक्सजीन की कमी को पूरा करने के लिए बफर स्टॉक की व्यवस्था की है। यदि किसी अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म होती है तो तत्काल स्मार्ट सिटी द्वारा ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाने की व्यवस्था शुरु की गई है। इसके लिए एसडीएम के साथ नायब तहसीलदार और 30 पटवारी टॉस्क फोर्स में काम कर रहे हैं। स्मार्ट सिटी की सीईओ जयति सिंह ने बताया कि निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन खत्म होने पर लोग घबराकर फोन करने लगते हैं। कमांड सेंटर द्वारा आपातकालीन स्टाॅक अथवा रीफ़िल स्टेशन से शीघ्र सिलेंडर पहुंचाए जा रहे हैं। टीम निजी अस्पतालों पर खास नजर रखे हुए है। कई बार ऑक्सीजन होने के बाद भी परेशान करने की शिकायतें आई हैं। इसके साथ ही ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए बफर स्टॉक का प्रावधान किया है।

लक्ष्मीगंज में दूसरा गैस चलित शवदाह गृह बनना शुरु
शहर के लक्ष्मीगंज मुक्तिधाम में एक गैस चलित शवदाह गृह होने के कारण शव लेकर पहुंचने वाले परिजनों को चार-चार घंटे तक इंतजार करना पड़ रहा था। ऐसे में नगर निगम आयुक्त शिवम वर्मा ने मुक्तिधाम पहुंचकर अधिकारियों को दूसरा गैस चलित शवदाह गृह लगाने के निर्देश दिए थे। बजट राशि का आवंटन होते ही एक निजी कंपनी को सात दिन में दूसरा गैस चलित शवदाह गृह तैयार करने की जिम्मेदारी दी गई है। गुरुवार को कंपनी ने एक ट्रक में सामान भरकर मुक्तिधाम पहुंचा दिया है। यहां शुक्रवार से काम शुरू हो जाएगा। श्री वर्मा ने गुरुवार को दूसरे गैस चलित शवदाह गृह को लगाने के लिए स्थान को देखा।

36 लाख रुपए खर्च होंगे: नोडल अधिकारी डॉ. अतिबल सिंह यादव ने बताया कि पूर्व में जो गैस शवदाह गृह लगाया गया है, उस पर 36 लाख रुपए खर्च हुए थे। इस शवदाह गृह पर भी 36 लाख रुपए खर्च होंगे। सात दिन में नया शवदाह गृह बन जाएगा। शेष काम पूरे करने के बाद 10 मई तक शवदाह गृह को चालू कर दिया जाएगा। गौरतलब है कि यहां पर बिजली चलित शवदाह गृह चालू है। अभी मृतकों की संख्या ज्यादा होने पर चबूतरे भी कम पड़ने लगे थे। जमीन पर ही मृतकों की अंतिम क्रिया की जा रही थी।

खबरें और भी हैं...