• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • A 5 month old Innocent Died In The Hospital Due To Viral, The Family Created A Ruckus By Demolishing The Shutter Of The Hospital, The Doctors Remained Locked Inside

डॉक्टरों और मरीजों को आधे घंटे तक बनाया बंधक:5 महीने बच्ची की अस्पताल में मौत, परिवार वाले बोले- डॉक्टरों की लापरवाही, अस्पताल ने कहा- दूध नली में जाने से दम तोड़ा

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बच्ची की मौत के बाद हॉस्पिटल का शटर बंद कर डॉक्टरों को बंधक बनाकर किया हंगामा - Dainik Bhaskar
बच्ची की मौत के बाद हॉस्पिटल का शटर बंद कर डॉक्टरों को बंधक बनाकर किया हंगामा

ग्वालियर में शांता नर्सिंग होम में सोमवार दोपहर एक 5 महीने की बच्ची की इलाज के दौरान मौत हो गई। घटना से आक्रोशित परिजन ने हॉस्पिटल के शटर गिराकर हंगामा खड़ा कर दिया। आंधे घंटे तक डॉक्टर व स्टाफ अंदर बंद रहे। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और स्थिति को संभाला। बच्ची को वायरल फीवर के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। परिजन का कहना है कि डॉक्टर बार-बार ICU और जनरल वार्ड में अदला बदली कर रहे थे।

सुबह मृत अवस्था में बच्ची देकर कह दिया कि बड़े अस्पताल ले जाओ। जब दूसरे अस्पताल पहुंचे तो पता लगा कि बच्ची की मौत हो चुकी है। डॉक्टरों का कहना है कि बच्ची को उसकी मां ने दूध पिलाया है। इस दौरान उसे उल्टी आई है। सांस नली से लंग्स में दूध जाने से मौत हुई है। पुलिस ने हंगामा को संभालते हुए अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ जांच शुरू कर दी है।

मासूम पीहू जिसकी वायरल फीवर और डॉक्टरों की लापरवाही ने जान ले ली
मासूम पीहू जिसकी वायरल फीवर और डॉक्टरों की लापरवाही ने जान ले ली

सिकंदर कंपू स्थित तिरूपति नगर निवासी सोनू यादव हिंदू सेना संगठन में नगर उपाध्यक्ष हैं। सोनू की 5 महीने की बेटी पीहू वायरल फीवर की चपेट में आ गई थी। 8 अक्टूबर को उसे दोपहर में सोनू ने पाटनकर बाजार शांता नर्सिंग होम में भर्ती कराया था। यहां डॉ. निहित चौधरी की देखरेख में इलाज किया जा रहा था। सोमवार दोपहर सोनू को बताया गया कि उसकी बच्ची की हालत खराब है वह किसी अन्य हॉस्पिटल में इलाज करा लें। इस पर वह उसे लेकर दूसरे अस्पताल पहुंचे, तो पता लगा कि बच्ची की मौत हो चुकी है। यह पता चलते ही परिजन आक्रोशित हो गए।

शांता नर्सिग होम के डॉक्टरों की लापरवाही पर सोनू ने अपने हिंदू सेना संगठन के सदस्यों को बुला लिया। बच्ची का शव लेकर अस्पताल पहुंचे और हंगामा खड़ा कर दिया। शांता नर्सिंग होम के सभी दरवाजों के शटर नीचे गिराकर डॉक्टराें को अंदर बंद कर दिया। जय-जय श्रीराम के नारे लगाए। हंगामे का पता चलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और स्थिति को नियंत्रण में लिया।

हंगामे के दौरान हिंदू सेना के सदस्य शांता नर्सिंग होम के शटर गिराते हुए।
हंगामे के दौरान हिंदू सेना के सदस्य शांता नर्सिंग होम के शटर गिराते हुए।

परिजन का आरोप
सोनू यादव ने शांता नर्सिंग होम के डॉक्टर व स्टाफ पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि उनकी बच्ची ठीक थी। डॉक्टर बार-बार जनरल वार्ड व आईसीयू में भर्ती करने का नाटक कर रहे थे। सोमवार दोपहर अचानक मृत बच्ची थमा दी। इसके बाद उसे दूसरी जगह इलाज कराने के लिए कहा। जब डॉक्टरों पर इलाज नहीं हो रहा था, तो पहले ही बताना था। उनकी लापरवाही है।

हॉस्पिटल प्रबंधन का कहना
शांता नर्सिंग होम से डॉ. ओपी गुप्ता का कहना है कि बच्ची ठीक थी। रात को उसकी मां ने उसे दूध पिलाया है। रात को मैंने बच्ची को चेक भी किया था। दूध पिलाने के बाद हो सकता है कि बच्ची को उल्टी आई, वह बाहर थूक नहीं पाई। इस कारण दूध अंदर सांस की नली में चला गया, जिससे मौत हुई है। बच्ची को पहले ही हमारे अस्पताल से उसके परिजन दूसरी जगह इलाज कराने ले गए थे, इसलिए मौत भी यहां नहीं हुई है।

खबरें और भी हैं...