पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • A Crook Of Gwalior Was Running The Press To Print Fake Currency Currency In Jaipur Goner, Two Arrested, Fake Notes Were Run In The City Too

राजस्थान के गोनेर से पकड़े 5.80 लाख के नकली नोट:ग्वालियर का एक बदमाश जयपुर गोनेर में चला रहा था नकली नोट करेंसी छापने की प्रेस, दो गिरफ्तार, शहर में भी चलाए थे नकली नोट

ग्वालियर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बरामद नकली नोट, क्वालिटी इतनी फाइन की पहचान करना  भी मुश्किल - Dainik Bhaskar
बरामद नकली नोट, क्वालिटी इतनी फाइन की पहचान करना भी मुश्किल
  • नकली नोट के साथ नोट बनाने और कटिंग की मशीनें भी जब्त की

ग्वालियर के वीरपुर बांध का रहने वाला एक युवक अपने दोस्त के साथ जयपुर राजस्थान के गोनेर के एक मकान में नकली नोट करेंसी छापने की प्रेस चला रहा था। देर रात SOG (स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप) की टीम ने दबिश देकर नकली नोट छापने और उनकी कटिंग कर रहे दो युवकों को पकड़ा है। इनके पास से 5.80 लाख रुपए के नकली नोट बरामद हुए हैं। यह नोट 500, 200 रुपए के हैं। अब SOG इनसे पूछताछ कर रही है। ग्वालियर में भी नकली नोट खपाने का पता लगा है। जल्द कोई बड़ा खुलासा हो सकता है।

नकली नोट के साथ दो आरोपी पकड़े, एक ग्वालियर के वीरपुर का, ग्वालियर में भी नकली नोट ठिकाने लगाए थे
नकली नोट के साथ दो आरोपी पकड़े, एक ग्वालियर के वीरपुर का, ग्वालियर में भी नकली नोट ठिकाने लगाए थे

SOG ATS के ADG अशोक राठौड़ ने बताया कि मध्यप्रदेश के ग्वालियर स्थित वीरपुर बांध निवासी बृजेश मौर्य और जयपुर के नाहरगढ़ के मोहन नगर निवासी प्रथम शर्मा को गिरफ्तार किया गया है। दोनों आरोपी महिला कोपल अवासीय कॉलोनी के एक मकान में भारतीय नोट छापने की मशीन और छापे गए नोटों की कटिंग करते हुए मिले थे। SOG गिरोह में शामिल अन्य लोगों की जानकारी जुटा रही है। आरोपियों से पूछताछ चल रही है कि नकली नोट कहां-कहां पर खपा चुके हैं। SOG के अफसरों ने बताया कि अभी कुछ दिन पहले गोनेर के रामबाग चौराहे से कार सवार चार लोगों को पकड़कर उनसे एक लाख रुपए के नकली नोट बरामद किए थे। चारों आरोपियों ने पूछताछ में बृजेश और प्रथम से नकली नोट लाना बताया था, तभी से SOG ने उन पर निगरानी रखना शुरू कर दिया था।

500 और 200 के नकली नोट मिले

DIG शरत कविराज के नेतृत्व में SOG की टीम ने देर रात मकान को घेर लिया था। मकान में पहुंची और तस्दीक की तो वहां पर 500-500 के 1147 नोट और 200 के 37 नोट मिले। आरोपियों से तैयार कुल 5 लाख 80 हजार 800 रुपए के नकली नोट मिले हैं, जबकि भारी संख्या में नोटों की प्रिंटिंग चल रही थी। SOG को नोट छापने के काम आने वाले उपकरण और सामग्री भी मिली।

नोटों की पहचान करना मुश्किल

SOG के अफसरों ने बताया कि दोनों आरोपी घर में रहकर नकली नोट छापने का काम कर रहे थे। नकली नोट बिल्कुल असली नोट जैसे दिखते हैं। नकली नोटों पर वाटर मार्क RBI थ्रेड व संख्या का अंकन भी है। गौर से नोटों को देखा जाए, तब नकली होने का पता चलता है। नोट को तिरछा करने पर 500 लिखा हुआ नजर नहीं आता। नकली नोट की पट्टी एक ही रंग की है और नाखुन से खुरेचने पर निकल जाती है। यही कमी थीं जिससे नोट नकली होना पकड़ में आ गए।

खबरें और भी हैं...