पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • After 110 Days In The State After The Order Of The State Government, The Curtains Were Raised In The Theaters, Talkies But The Film Did Not Play.

सिर्फ साफ-सफाई के लिए खुले सिनेमाघर:राज्य सरकार के आदेश पर प्रदेश में 110 दिन बाद सिनेमाघर, टॉकीज में पर्दा तो उठा पर फिल्म नहीं चली

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ग्वालियर के फालका बाजार स्थित कॉजल टॉकीज 110 दिन से बंद थी मंगलवार को भी यहां मूवी नहीं चल सकी - Dainik Bhaskar
ग्वालियर के फालका बाजार स्थित कॉजल टॉकीज 110 दिन से बंद थी मंगलवार को भी यहां मूवी नहीं चल सकी
  • सिनेमाघर संचालकों को है जिले की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी और कलेक्टर के आदेश का इंतजार

ग्वालियर सहित प्रदेश में 110 दिन बाद राज्य शासन के आदेश पर सिनेमाघरों से पर्दा तो उठा, लेकिन कोई फिल्म नहीं चली है। क्योंकि राज्य शासन के आदेश पर जिलों की क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक का न होना भारी पड़ गया है।

मंगलवार को सिनेमाघर खुले उनमें साफ-सफाई की गई। सीटों को सैनिटाइज किया गया, लेकिन कोई मूवी नहीं दिखा सके। शाम तक तक प्रदेश के सभी बड़े शहरों में आदेश का इंतजार हुआ और उसके बाद शटर डाउनकर सिनेमा हॉल संचालक घर वापस लौट गए। रात तक जिले की गाइड लाइन आने का इंतजार है।

सिनेमा हॉल के अंदर सीट को सैनिटाइज करता कर्मचारी, दो सीट के बीच में एक सीट पर फीता बांधा गया है, जिससे सोशल डिस्टेंस बना रहे
सिनेमा हॉल के अंदर सीट को सैनिटाइज करता कर्मचारी, दो सीट के बीच में एक सीट पर फीता बांधा गया है, जिससे सोशल डिस्टेंस बना रहे

सोमवार को राज्य सरकार ने प्रदेश में कोविड में लगाई गईं कुछ और बंदिशों में छूट दी थी। जिसमें बाजारों को रात 10 बजे खोलने और सिनेमाघर 50% क्षमता के साथ शुरू किए जाने की घोषणा की थी। वहीं, रेस्टोरेंट अब फुल कैपेसिटी यानी 100% क्षमता के साथ खुल सकेंगे। शादी में 100 और अंतिम संस्कार में 50 लोगों को शामिल होने की इजाजत दी गई है। सोमवार को कोरोना की समीक्षा बैठक के बाद सरकार ने यह फैसला लिया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण में है। इसे देखते हुए यह छूट देने का निर्णय लिया गया है।

मार्च महीने में बंद किए गए थे सिनेमाघर

  • प्रदेश के ज्यादातर शहरों में मार्च 2021 में सिनेमाघरों को कोविड के चलते बंद किया गया था। ग्वालियर में 25 मार्च से सिनेमाघरों को बंद किया गया था। ठीक 110 दिन बाद 12 जुलाई को राज्य सरकार ने 50 फीसदी दर्शक क्षमता के साथ सिनेमाघरों को खोलने की घोषणा तो कर दी, लेकिन अंतिम अधिकार जिले की क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक और उनके सदस्यों पर छोड़ा था। मंगलवार को हर शहर में सिनेमाघर संचालकों को वहां के स्थानीय प्रशासन के आदेश का इंतजार रहा जो शाम तक नहीं मिला। संभावना है कि बुधवार से प्रदेश के सिनेमाघर खुलेंगे भी और उनमें लोग मूवी देखने का लुफ्त भी ले सकेंगे।
  • सिनेमाघर में एक-एक सीट को साफ करते हुए, लंबे समय से बंद था हॉल, सीटों पर मोटी धूल जमी दिख रही है

कहीं आदेश तो कहीं मूवी नहीं होना टेंशन

  • प्रदेश के ज्यादातर शहरों में स्थानीय प्रशासन के आदेश के इंतजार में मंगलवार को सिनेमाघर या टॉकीज में कोई मूवी नहीं चल सकी है। इसके साथ ही मॉल के अंदर सिनेमघरों को मुम्बई से उनकी कंपनी हैंडल करती है। उसकी गाइडलाइन और कौनसी मूवी, कितने शो हर दिन चलेंगे यह वहीं से तय होगा। जो अभी तक नहीं होने से मंगलवाल को मॉल में भी सिनेमाघर बंद रहे।

मूवी नहीं चली तो क्या तैयारी पूरी थी

  • ग्वालियर में फालका बाजार स्थित काजल टॉकीज के संचालक संजय शाह ने बताया कि सोमवार शाम को मुख्यमंत्री के सिनेमाघर खोलने की घोषणा के बाद मंगलवार को आशा थी कि स्थानीय प्रशासन भी आदेश जारी करेगा, लेकिन अभी कोई ऑर्डर नहीं मिला है। पर मंगलवार को काजल टॉकीज में साफ-सफाई कराई है। 25 मार्च से टॉकीज बंद थी। एक-एक सीट को सैनिटाइज कराया गया है। अब प्रशासन की गाइडलाइन मिल जाए कि दो सीट के बीच कितनी सीट खाली छोड़नी है। तो टॉकीज शुरू की जा सके।

मुम्बई से तय होगा कब से सिनेमाघर में मूवी चलेगी

  • ग्वालियर के डीडी मॉल में INOX ही सिनेमाघर का संचालक करता है। स्थानीय स्तर पर इसके अधिकारी मथुरा प्रसाद ने बताया कि राज्य सरकार ने घोषणा कर दी है। अब जिले की कमेटी को भी ऑर्डर जारी करना है। इसके बाद INOX के सिनेमा में कौनसी मूवी चलेगी, हर दिन कितने शो चलेंगे, 50 फीसदी दर्शक क्षमता के साथ टिकट कितने का होगा। यह सभी मुम्बई हैड ऑफिस से तय होना है। वहां से गाइडलाइन मिलने के बाद ही आगे बता सकेंगे कि कब से लोग यहां मूवी देख सकते हैं।
खबरें और भी हैं...