जेयू:कृषि कॉलेज, रैगिंग से बचाने पीएचडी छात्रों के साथ हॉस्टल में रहेंगे जूनियर

ग्वालियर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शपथ पत्र में लिखकर देंगे सीनियर झगड़ा नहीं करेंगे, अलग विंग में रहेंगे

जीवाजी यूनिवर्सिटी व कृषि कॉलेज के हॉस्टल में जूनियर को रखने को लेकर हॉस्टल वार्डन अभी से योजना बना रहे हैं, जिससे जूनियर को सीनियर की रैंगिंग से बचाया जा सके। साथ ही दोनों पक्षों के बीच विवाद की स्थिति न बनें। कोरोना के पहले तक कृषि कॉलेज में हर साल बीएससी कृषि पहले वर्ष व सीनियर छात्रों के बीच विवाद होते रहे हैं।

हॉस्टल में रहने वाले जूनियर आरोप लगा चुके हैं कि सीनियर उनकी रैगिंग लेते हैं। बीएससी कृषि पहले वर्ष में नवंबर तक एडमिशन होने की संभावना है। कृषि कॉलेज में ब्वॉयज के तीन हॉस्टल हैं। जिनमें 400 विद्यार्थियों की रहने की क्षमता है। अभी तक बीएससी पहले वर्ष के छात्रों को अलग रखा जाता था। इससे जूनियर, सीनियर पर परेशान करने का आरोप लगाते थे। लेकिन अब कॉलेज प्रशासन ने बीएससी कृषि पहले वर्ष के छात्रों को पीएचडी शोधार्थियों के साथ रखने का निर्णय लिया है। वहीं जेयू के आर्यभट्‌ट हॉस्टल व कैप्टन रूप सिंह हॉस्टल में रहने वाले जूनियर व सीनियर को अलग-अलग विंग में रखा जाएगा। विद्यार्थियों से शपथ पत्र लिया जाएगा कि वह हॉस्टल में किसी के साथ भी विवाद नहीं करेंगे। ऐसा करने पर हॉस्टल से उन्हें बाहर कर दिया जाए।

खबरें और भी हैं...