पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शहर की हवा में सुधार:ग्वालियर में काेराेना कर्फ्यू के कारण घटा वायु प्रदूषण 5 दिन में 147 से आगे नहीं बढ़ा एयर क्वालिटी इंडेक्स

ग्वालियर15 दिन पहलेलेखक: अंशुल वाजपेयी
  • कॉपी लिंक
  • धूल उड़ने से पीएम-10 के स्तर में कम गिरावट, लेकिन वाहन कम चलने से पीएम-2.5 का स्तर काफी कम हुआ

कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए लगाए गए कर्फ्यू के कारण शहर की हवा की सेहत सुधर रही है। पिछले पांच दिन में शहर के वायु प्रदूषण के स्तर में तेजी से सुधार हुआ है। शहर में 15 अप्रैल से काेराेना कर्फ्यू लगा है, जो 22 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक जारी रहेगा। 14 अप्रैल को एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) 147 था, जो 15 अप्रैल को 143 और 16 अप्रैल को 102 पर पहुंच गया। 19 अप्रैल को भी एक्यूआई का आंकड़ा 137 रहा। एक बार भी एक्यूआई का आंकड़ा 150 के पार नहीं गया। जबकि लॉकडाउन से पहले अप्रैल में 6 बार एक्यूआई का आंकड़ा 150 से ज्यादा रहा था। सात अप्रैल को एक्यूआई 188 दर्ज किया गया था।

क्या होता है एक्यूआई
एक्यूआई यानि की एयर क्वालिटी इंडेक्स। वातावरण में पर्टिकुलेट मैटर (पीएम)-10, पीएम-2.5, अमोनिया, सलफर डाईआक्साइड, कॉर्बन मोनोआक्साइड, नाइट्रोजन डाईआक्साइड और ओजोन की मात्रा की सैम्पलर मशीन से गणना की जाती है और एक फॉर्मूले में रखकर एक्यूआई कि संख्या निकाली जाती है।एक्यूआई का आंकड़ा 100 तक ठीक माना जाता है, लेकिन उससे उपर उसे ठीक नहीं माना जाता।

एक्सपर्ट व्यू; धूल उड़ने से पीएम-10 के स्तर में कम हुई गिरावट
काेराेना कर्फ्यू से शहर में एक्यूआई तो कम हुआ, लेकिन इसमें और गिरावट दर्ज होती, यदि रोज सड़कों की सफाई हो रही होती। तेज हवा चलने से धूल के कण वातावरण में मौजूद रहे। इस कारण पीएम-10 के स्तर में ज्यादा गिरावट दर्ज नहीं हुई। वाहनों के धुएं से पीएम-2.5 के कण उत्पन्न होते हैं। चूंकि कर्फ्यू में वाहन कम चल रहे हैं। इस कारण पीएम-2.5 के स्तर में गिरावट आई है।
- डॉ. हरेंद्र शर्मा, विभागाध्यक्ष, पर्यावरण विज्ञान अध्ययनशाला, जेयू

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें