पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Atrocities Against 40 Innocent Children In 6 Months, 14 Of These Victims Are Less Than 10 Years Old

असुरक्षित बेटियां:6 माह में 40 मासूमों के साथ ज्यादती, इनमें 14 पीड़िताओं की उम्र 10 साल से भी कम

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तीन दिन में मासूमों के साथ छेड़छाड़ और दुष्कर्म की तीन घटनाएं हुई हैं। - Dainik Bhaskar
तीन दिन में मासूमों के साथ छेड़छाड़ और दुष्कर्म की तीन घटनाएं हुई हैं।
  • अब जहां अधिक घटना वहां महिला पुलिसकर्मी होंगी तैनात काउंसिलिंग भी करेगी पुलिस क्राइम

शहर में बेटियां असुरक्षित हैं। तीन दिन में मासूमों के साथ छेड़छाड़ और दुष्कर्म की तीन घटनाएं हुई हैं। बीती रात एक बार फिर 12 वर्षीय मासूम के साथ पड़ोसी ने छेड़छाड़ कर दी। गनीमत रही कि बच्ची ने पड़ोसी की हरकत को समझकर शोर मचाया तो वह धक्का देकर भाग गया। घटना सिटी सेंटर क्षेत्र की है।

यूनिवर्सिटी पुलिस ने छेड़छाड़ और पॉक्सो एक्ट की धारा में मामला दर्ज किया है। अगर आंकड़ों की बात करें तो 1 जनवरी 2021 से 30 जून 2021 के बीच छह माह में 40 बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटना हुई। वहीं 38 बच्चियों के साथ छेड़छाड और ज्यादती की कोशिश जैसी घटनाएं हुईं। 14 पीड़िताएं तो ऐसी थीं, जिनकी उम्र 10 वर्ष से कम थीं। 1 जुलाई से 7 जुलाई के बीच पांच घटनाएं हुईं। इस तरह की घटनाएं उन इलाकों में अधिक हुईं, जहां मजदूर तबके के लोग रहते हैं।

मासूमों के साथ लगातार हो रही दुष्कर्म और छेड़छाड़ की घटनाओं को देखते हुए अब पुलिस अफसरों ने ऐसे स्थान चिह्नित करना शुरू कर दिए हैं, जहां मासूम बच्चियों के साथ लैंगिक अपराध की घटनाएं अधिक हो रही हैं। ऐसे स्थानों पर महिला पुलिस की तैनाती की जाएगी। इतना ही नहीं, ऐसी बस्तियां जहां मजदूर तबके के लोग रहते हैं और कम पढ़े-लिखे हैं, ऐसे इलाकों में जाकर काउंसिलिंग भी कराई जाएगी।

6 माह में हुुई 40 घटनाएं, लेकिन पिछले साल से कम

  • मासूमों के साथ ज्यादती और छेड़छाड़ की घटनाओं में पिछले साल की तुलना में कमी आई है। पिछले साल जनवरी से जून के बीच दुष्कर्म की 47 और छेड़छाड़ की 57 घटनाएं हुई थीं। इस साल इन छह माह में घटनाओं में कमी आई है।
  • पिछले साल छेड़छाड़ और दुष्कर्म की घटनाएं सिंधिया नगर पहाड़ी, गुढ़ा-गुढ़ी का नाका, बहोड़ापुर और उपनगर ग्वालियर के अलग-अलग इलाकों में अधिक हुई थीं। यहां सुरक्षा बढ़ाई गई, इससे यहां घटनाओं में कुछ कमी आई।
  • मासूम बच्चियों के साथ जो घटना हुई, उसमें 65% मामलों में आरोपी परिचित निकले। 19 मामले तो ऐसे हैं, जिनमें आरोपी पड़ोसी थे। इनके घर या तो बच्ची का अधिक आना जाना था, यह आरोपी बच्ची के घर आते जाते थे।

बढाए जाएंगे सुरक्षा के इंतजाम

बच्चियों के साथ दुष्कर्म और छेड़छाड़ की घटनाओं का विश्लेषण करा रहे हैं। जिन इलाकों में अधिक घटनाएं हुई हैं, वहां महिला पुलिसकर्मी की तैनाती से लेकर अन्य सुरक्षा के इंतजाम किए जाएंगे। -अमित सांघी, एसपी

खबरें और भी हैं...