• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Big Stones Were Placed On The Railway Line Between Sithouli Gwalior, The Engines Of Two Trains Collided, The Accident Was Averted Due To The Speed Drop

टला हादसा, बची सैकड़ों यात्रियों की जान:सिथौली-ग्वालियर के बीच रेलवे लाइन पर रखे थे बड़े पत्थर, दो ट्रेनों के इंजन टकराए, स्पीड कम होने से टला हादसा

ग्वालियर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो- RPF ने ट्रैक पर पत्थर रखने वालों पर मामला दर्ज किया है - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो- RPF ने ट्रैक पर पत्थर रखने वालों पर मामला दर्ज किया है
  • अप और डाउन ट्रैक पर रखे गए थे पत्थर
  • RPF ने पत्थर जब्त कर दर्ज कर FIR दर्ज की

मंगलवार सुबह सिथौली-ग्वालियर के बीच रेलवे लाइन पर एक बड़ा हादसा होते-होते टला है। दो यात्री ट्रेनों के इंजन, ट्रैक पर रखे बड़े पत्थरों से टकरा गए। पत्थर टकराने से झटका लगने के बाद ट्रेनें वहीं खड़ी हो गईं। किस्मत से दोनों ही घटनाएं स्टेशन के नजदीक हुई हैं, जिस कारण ट्रेनों की रफ्तार काफी कम थी। यदि रफ्तार अधिक होती तो बड़ा हादसा हो सकता था। घटना के कारण करीब एक घंटे तक रेल यातायात प्रभावित रहा। RPF ने मामले की सूचना मिलते ही स्पॉट पर पहुंचकर पत्थरों काे जब्त कर FIR दर्ज कर ली है। जांच कर पता लगाया जा रहा है कि ट्रैक पर पत्थर रखने वाले शरारती तत्व कौन हैं।

RPF से मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार सुबह 4.05 बजे जैसे ही झांसी की ओर जाने वाली सर्दन एक्सप्रेस निकली तो कुछ देर बाद सूचना आई कि ट्रेन खंबा नंबर 1223/11 के पास से ट्रैक पर रखे बड़े पत्थर से टकराई है। इंजन से पत्थर टकराते ही जोर का झटका लगा और ट्रेन वहीं खड़ी हो गई। झटका लगने से सो रहे यात्रियों की नींद टूटी और अफरा-तफरी मच गई। सूचना मिलते ही RPF का अमला मौके पर पहुंचा और जांच पड़ताल शुरू की। अभी RPF की टीम जांच कर रही थी कि तभी पता लगा कि इसी स्पॉट से कुछ दूरी पर डाउन ट्रैक पर झांसी की ओर से ग्वालियर आ रही दुर्ग-निजामुद्दीन एक्सप्रेस का इंजन भी पटरी पर रखे बड़े पत्थर से टकराया है। इस कारण इंजन क्षतिग्रस्त हो गया है। किस्मत से दुर्ग-निजामुद्दीन एक्सप्रेस भी स्टेशन के नजदीक होने के कारण स्पीड में नहीं थी। जिस कारण कोई ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है, लेकिन ट्रेन स्पीड में होती तो बड़ा हादसा हो सकता था।

आसामाजिक तत्वों की शरारत

ट्रैक पर पत्थर रखने की हरकत पहली बार नहीं हुई है। इस तरह की हरकत ग्वालियर के आसपास होती रहती हैं। इससे पहले भी इस तरह ट्रैक पर पत्थर रखकर ट्रेनों को नुकसान पहुंचाने का प्रयास किया गया है। इससे पहले पनिहार में इंटरसिटी के ट्रैक पर पत्थर रखकर यह हरकत की गई थी। RPF को आशंका है कि यह ट्रैक के आसपास रहने वाले शरारती तत्वों की शरारत है।

अन्य स्टेशनों पर रोकी गई ट्रेने

जिस समय अप और डाउन ट्रैक पर दोनों ट्रेन खड़ी रहीं अप डाउन ट्रैक पर आने वाली ट्रेनों को अन्य छोटे स्टेशन पर रोकना पड़ा। सुबह के समय दिल्ली से आने वाली ट्रेन रायरू, बिरला नगर व मुरैना में रोकी गईं, जबकि झांसी की ओर से आने वाली गाड़ियां संदलपुर, आंतरी व डबरा के पास रोकी गई हैं।

खबरें और भी हैं...