नियमों की अनदेखी:बस स्टैंड पर नहीं की जा रही यात्रियों की कोरोना की जांच

ग्वालियर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

रेलवे स्टेशन की तरह बस स्टैंड पर पर बाहर से आने वाले यात्रियों की कोरोना संक्रमण की जांच नहीं हो रही है। जबकि बसों से राजस्थान, उप्र, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा सहित भोपाल व इंदौर से यात्री ग्वालियर आ रहे हैं। बाहरी यात्रियों के आने के कारण ही शहर में कोरोना संक्रमण की दर बढ़ी है। बस स्टैंड पर आने वाले यात्रियों की कोरोना की सैंपलिंग होने लगे तो ऐसे यात्रियों को समय रहते ट्रेस किया जा सकता है जो संक्रमित हैं।

वहीं स्वास्थ्य विभाग के अफसरों का कहना है कि उनके पास अमले की कमी है। ऐसे में वह बस स्टैंड पर यात्रियों की कोरोना संक्रमण की जांच नहीं करवा पा रहे। झांसी बस स्टैंड व अंतरराज्यीय बस स्टैंड पर हरदिन लगभग 300 बसों का आना जाना है। इन बसों में लगभग 12 हजार यात्री आ और जा रहे हैं।

मप्र रोडवेज बस ऑपरेटर यूनियन के सहसचिव विनोद शर्मा का कहना था कि यात्रियों को मास्क लगाने के लिए टोका जाता है। सीएमएचओ डॉ. मनीष शर्मा का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग के पास स्टाफ की कमी है।

खबरें और भी हैं...