इंटरनेशनल डांस डे:नृत्य में वह ताकत है जो जीवन में ऊर्जा, गति, सकारात्मकता देती है

ग्वालियर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर की नृत्यांगनाएं बता रही हैं कि कोरोना काल में उन्होंने कैसे अपने नृत्य से लोगों को संदेश दिए

नृत्य एक ऊर्जा है, एक गति और लय है। एक स्वप्न है जिसमें एक सुंदर दुनिया जीवंत हो उठती है। इसी जीवन से लोगों को उम्मीद मिलती है, ताकत मिलती है और वह सकारात्मकता भी जिसके ज़रिए विपरित परिस्थितियों से बाहर निकला जा सकता है। आज इंटरनेशनल डांस डे है। शहर की चुनिंदा नृत्यांगनाएं बता रही हैं कि उन्होंने अपनी नृत्य प्रस्तुतियों और विचारों से कैसे कोरोना काल में अपने नृत्यों से संघर्ष, शक्ति और सकारात्मकता पैदा की। उन्होंने इनोवेशन, सामूहिक और एकल नृत्य से कोराना काल में अपनी नृत्य कला को नई ऊंचाइयां दी।

जीवन प्रवाहमान है, यह कोराेना काल भी निकल जाएगा

वरिष्ठ नृत्यांगना डॉ. सुचित्रा हरमलकर कहती हैं कि मैंने अपनी साथियों के साथ गमक उत्सव में मां नर्मदा पर नृत्य कर यह संदेश दिया था कि जीवन सतत प्रवाहमान है। कोरना भी चला जाएगा। हमें प्रकृति को लेकर सचेत हो जाना चाहिए कि हम अपनी नदियों को प्रदूषित होने से बचा सकें। युवा नृत्यांगना इस समय में एकाग्रता से अपना हुनर तराशें। कला की सफलता का मूल मंत्र भी है।

कोरोना काल में इससे लड़ने की शक्ति दी है नृत्य ने हमें
कथक गुरु डॉ. पुरु दाधीच की शिष्या और नृत्यांगना हर्षिता शर्मा कहती हैं इस कोरोना नामक भयावह राक्षस से लड़ने, मनोबल बढ़ाने, ध्यान एकाग्र करने में नृत्य मदद करता है। नृत्य से यही सीखा जा सकता है। नृत्य कलाकारों के साथ ही दर्शकों में ऊर्जा का संचार करता है बल्कि वातावरण भी सकारात्मक ऊर्जा से भर देता है। इस अंधकारभरे युग में प्रकाश को ढूंढना और लोगों में उसका संचार करना हमारी सामूहिक ज़िम्मेदारी है।

टेक्नोलॉजी की मदद से लोगों में नृत्य से सकारात्मकता पैदा की

कथक नृत्यांगना रागिनी मक्खर कहती हैं कि नृत्य माइंड, बॉडी और सोल का ट्रीटमेंट है। परिस्थिति मेंे अपने को ढालकर, पॉजिटिविटी से नृत्य किया। इस समय में मैंने ई लर्निंग विदेशी लोगों से जुड़कर उन्हें कथक की परंपरा से परिचित कराया। भरतनाट्यम नृत्यांगना श्रुति राजीव शर्मा का मानना है नृत्य जीवन में संतुलन साधना सिखाता है। टेक्नोलॉजी की मदद से बड़े वर्ग से कनेक्ट रहकर हमने लोगों के अकेलेपन में उन्हें सकारात्मकता दी है।

खबरें और भी हैं...