मकर संक्रांति:सूर्य मंदिर दर्शन करने पहुंचे श्रद्धालु, दान कर लिया पुण्य

ग्वालियर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मकर संक्रांति के अवसर पर अचलेश्वर महादेव मंदिर पर दर्शनार्थियों की लगी रहीं कतारें। - Dainik Bhaskar
मकर संक्रांति के अवसर पर अचलेश्वर महादेव मंदिर पर दर्शनार्थियों की लगी रहीं कतारें।
  • शहर के प्रमुख धार्मिक स्थलों पर किए गए आयोजन, आज भी मनाया जाएगा पर्व

मकर संक्रांति पर शहर के लोगों ने मंदिरों में अपने ईष्ट के दर्शन कर समृद्धि की कामना की। साथ ही तिली मिष्ठान्न, कंबल, गरम कपड़े दान कर पुण्य लाभ भी लिया। कुछ सामाजिक संगठनों ने मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाने की परंपरा भी निभाई।

सूर्य मंदिर पहुंचे श्रद्धालु- मकर संक्रांति को सूर्य भगवान की आराधना की जाती है। इसके चलते श्रद्धालु गोला का मंदिर स्थित सूर्य मंदिर पहुंचे। यहां भगवान सूर्य की आराधना की। इसके साथ ही श्रद्धालुओं ने सुबह जल्दी उठकर गंगाजल मिलाकर स्नान किया तथा इसके बाद भगवान सूर्य को अर्घ्य देकर आराधना की। मंदिरों में पहुंचे लोगों ने भगवान को तिल के मिष्ठान्न तथा खिचड़ी अर्पित की, इसके साथ ही दान देकर पुण्य लिया।

श्री सनातन धर्म मंदिर में मकर संक्रांति पर मनाया गया खिचड़ी उत्सव

श्री सनातन धर्म मन्दिर में मकर संक्रांति पर्व श्रद्धाभाव के साथ मनाया गया। भगवान चक्रधर के दर्शन लाभ एवं दानपुण्य लाभ हेतु सुबह से ही श्रद्धालुओं के आने का क्रम प्रारंभ हो गया। भक्तों ने खिचड़ी, तिल, गजक भगवान को अर्पण की। भगवान श्री चक्रधर, श्री गिरिराजधरण का विशेष शृंगार मुख्य पुजारी पंडित आचार्य रमाकांत शास्त्री ने किया। भगवान को नई पोशाक, माला धारण कराई गई। पगड़ी मोरपंख माथे पर धारण कराया गया, गले में श्री तुलसी की कंठी, वनमाला धारण कराई गई। सायंकालीन सत्र में श्री चक्रधर का खिचड़ी उत्सव मनाया गया।

यहां भी हुए संक्रांति पर आयोजन

  • जैन मिलन ग्वालियर की ओर से मकर संक्रांति एवं नववर्ष मिलन कार्यक्रम नई सड़क स्थित चंपाबाग धर्मशाला में आयोजित किया गया।
  • युवक हिंदू महासभा- मकर संक्रांति पर्व पर भगवान सूर्य नारायण का पूजन कर श्री सूर्य चालीसा किया गया। साथ ही अभा हिंदू महासभा के ग्वालियर चंबल संभाग के संभागीय महामंत्री मनोज जाटव को सूर्य रत्न सम्मान दिया गया।
  • कल मनेगा संक्रांति उत्सव- संत गजानन मंदिर लक्ष्मीगंज एबी रोड पर संक्रांति उत्सव 16 जनवरी को शाम 5.30 बजे मनाया जाएगा। प्रवक्ता निशिकांत सुरंगे ने बताया कि इस कार्यक्रम मेे युवा विचारक मेघदूत परचुरे अपनी संस्कृति में पर्यावरण का महत्व विषय पर प्रबोधन देंगे। इसके बाद वरिष्ठ दंपति डॉ दत्तात्रेय व आरती मोघे के हस्ते तिल गुड़ वितरण के साथ उत्सव का समापन होगा।
खबरें और भी हैं...