पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Didinagar, Pinto Park And Sikandar Kampu Are Hot Spots Of Dengue Even In The Sixth Year, 30% Patients Found Here

​​​​​​​खतरा बढ़ा:डीडीनगर, पिंटो पार्क व सिकंदर कंपू छठवें साल भी डेंगू के हाॅट स्पाॅट, 30% मरीज यहीं मिले

ग्वालियर4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जयारोग्य चिकित्सालय की ओपीडी में कतार में खड़े मरीज। - Dainik Bhaskar
जयारोग्य चिकित्सालय की ओपीडी में कतार में खड़े मरीज।
  • सीएमएचओ का दावा... हाॅट स्पाॅट में लगातार किया जा रहा एंटी लार्वा सर्वे
  • हकीकत... कई जगह पहुंचीं ही नहीं टीमें
  • 7 दिन में 32 बच्चे डेंगू की गिरफ्त में आए

ग्वालियर में डेंगू तेजी से फैल रहा है। अब तक मिले 79 मरीजाें में 53 केस पिछले एक सप्ताह में ही सामने आए हैं। इनमें 32 वाे मरीज हैं, जिनकी 17 साल से कम है। 21 बीमाराें की उम्र 18 साल से 70 वर्ष तक है। इससे साफ है कि इस बार बच्चाें काे डेंगू अपनी गिरफ्त में ज्यादा ले रहा है।

शहर में हाॅट स्पाॅट भी वही हैं जहां लगातार छह साल से डेंगू के केस सामने आते रहे हैं। दीनदयाल नगर, पिंटो पार्क व उसके आसपास के क्षेत्र में पिछले एक सप्ताह में 18 और सिकंदर कंपू में 6 मरीज सामने आए हैं। तानसेन नगर में 13 साल की बच्ची की डेंगू से मौत हो चुकी है। इसके बाद भी नगर निगम और मलेरिया विभाग ने कोई खास इंंतजाम नहीं किए हैं। कई जगह टीमों ने घरों का जायजा नहीं लिया है। शहर में शताब्दीपुरम, अमलताश कॉलोनी, रचना नगर, दर्पण कॉलोनी, गोविंदपुरी, हजीरा, तानसेन नगर और मुरार क्षेत्र में डेंगू फैलने की आशंका बनी हुई है।

ओपीडी में 3143 मरीज
जयारोग्य चिकित्सालय की ओपीडी में मंगलवार को 3143 मरीज पहुंचे। इनमें 485 ने मेडिसिन विभाग, 202 ने पीडियाट्रिक, 429 ने स्किन और 241 ने नाक, कान एवं गला रोग विशेषज्ञ को दिखाया। इनमेंे 70% वायरल जनित बीमारियों से पीड़ित थे।

बेड कम होने से परेशानी
कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने जिला अस्पताल मुरार और सिविल अस्पताल हजीरा में 20-20 बेड के डेंगू वार्ड बनाने के निर्देश दिए हैं। जिला अस्पताल में मेडिसिन के 30 बेड के वार्ड में आईसीयू बन रहा है। कैंसर वार्ड में मेडिसिन के मरीजों को रखना पड़ रहा है। ऐसे में 20 बेड का डेंगू वार्ड बनना मुश्किल है। इसी तरह सिविल अस्पताल हजीरा में 30 बेड पर पहले से मरीज भर्ती हो रहे हैं।

अनदेखी... प्राइवेट लैब की जांच का रिकॉर्ड नहीं
आदेश के बाद भी प्राइवेट लैब से डेंगू पॉजिटिव की सूचना सीएमएचओ कार्यालय को नहीं दी जा रही है। बीते रोज भिंड निवासी जिस मरीज की डेंगू के चलते मौत हुई है, उसने कंपू स्थित एक निजी लैब में अपनी जांच कराई थी।

लापरवाही... केआरएच के वार्डों में फिर मिले लार्वा
कमलाराजा चिकित्सालय (केआरएच) में पिछले माह मलेरिया विभाग को डेंगू के लार्वा मिले थे। मंगलवार को टीम पुन: केआरएच पहुंची तो कूलरों और गमलों में भरे पानी में डेंगू के लार्वा मिले। थे। टीम ने दवाओं का छिड़काव कर लार्वा नष्ट किया।

डेंगू के शुरूआती लक्षण वायरल जैसे
इस बार डेंगू गंभीर नहीं हो रहा है। शुरूआती लक्षण में वायरल से मिलते-जुलते हैं। इसलिए अगर किसी व्यक्ति को बुखार आने के साथ सिर दर्द, आंखों में दर्द हो और बदन पर लाल दाने निकल आए हों तो उसे गंभीरता से लें। यह साधारण वायरस नहीं बल्कि डेंगू हो सकता है। अगर इन लक्षणों को नजरंदाज किया जाएगा तो यह घातक हो सकता है।
-डॉ. अजय गौड़, विभागाध्यक्ष, पीडियाट्रिक जीआरएमसी
​​​​

खबरें और भी हैं...