पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Eco Friendly Bricks Will Be Made From Cow Dung And Yellow Soil, The Temperature Of The Building Will Be Controlled

खर्च में बचत:गोबर और पीली मिट्टी से बनाई जाएंगी ईको फ्रेंडली ईंटें, इमारत का तापमान रखेंगी नियंत्रित

ग्वालियर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • इंजीनियर का दावा- देश में पहली बार होगा ये प्रयोग, इससे खर्च भी कम होगा

खर्च में बचत, कम वजन और इमारत का तापमान नियंत्रित रखने के लिए ग्वालियर में गोबर-पीली मिट्‌टी से ईको फ्रेंडली ईंट बनाने की तैयारी की जा रही है। अगले कुछ दिनों में परीक्षण के लिए इनका निर्माण किया जाएगा। इन ईंटों का निर्माण जिला पंचायत प्लांट लगाकर कराएगी और स्व-सहायता समूहों के माध्यम से उन्हें बेचा जाएगा। इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे जिला पंचायत के परियोजना अधिकारी और इंजीनियर जयसिंह नरवरिया का दावा है कि देश में अभी तक इस तरह की कोई ईको फ्रेंडली ईंट नहीं बनी है। आने वाले कुछ महीनों में ग्वालियर से इसकी शुरूआत होगी।

ऐसे बनेगी ईंट: गोबर के बाद भी नहीं आएगी बदबू

  • गोबर में पीली मिट्‌टी, फाइबर, बेलपत्र, जिप्सम व केमिकल मिलाया जाएगा। इन सबसे तैयार ईंट में बदबू नहीं आएगी और मजबूती मिलेगी। साथ ही दूसरे प्रकार की ईंटों की तुलना में इसकी लागत कम रहेगी और लोगों को भी सस्ती मिलेगी। जबकि मिट्‌टी की ईंट, फ्लाईश ईंट और एसीसी ब्लॉक के दाम लगातार बढ़ रहे हैं।
  • अभी मिट्‌टी की ईंट के अलावा फ्लाईश ईंट और एसीसी ब्लॉक का इस्तेमाल किया जाता है, जिसमें से एससी ब्लॉक से तैयार होने वाली बिल्डिंगों में तापमान का असर कम रहता है और ये वजन में भी हल्के रहते हैं। इसलिए बिल्डिंग में मजबूती के लिए सरिया बढ़ा लिया जाता है। लेकिन ईको फ्रेंडली ईंट के प्रोजेक्ट पर काम कर रही टीम का दावा है कि ये ईंट दूसरे सभी तरह की ईंट या ब्लॉक से न सिर्फ वजन में हल्की रहेगी। बल्कि बिल्डिंग के अंदर का तापमान सामान्य रखेगी।

गोबर से ईको फ्रेंडली ईंट बनाने पर काम चल रहा है
गोबर से ईको फ्रेंडली ईंट बनाने के प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है और काफी हद तक हम लोग इसमें सफल हो गए हैं। आने वाले कुछ महीने में ईंटों का उत्पादन शुरू कराएंगे। इनकी लागत काफी कम रहेगी, साथ ही ये ईंटें बिल्डिंग के तापमान को सामान्य रखने का काम बहुत अच्छे से करेंगी। - जयसिंह नरवरिया, परियोजना अधिकारी/ जिला पंचायत

खबरें और भी हैं...