• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Even After Passing, 605 Students Had Chosen The Special Exam Themselves, 70 Did Not Come To Give The Paper, Now The Future Is In Danger, Will Have To Study Afresh

खुद ने चुनी विशेष परीक्षा उसमें भी नहीं आए...:पास होने के बाद भी 605 छात्रों ने खुद चुनी थी विशेष परीक्षा, 70 पेपर देने ही नहीं आए, अब खतरे में भविष्य, नए सिरे से करनी होगी पढ़ाई

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पदमा विद्यालय में विशेष परीक्षा देते छात्र - Dainik Bhaskar
पदमा विद्यालय में विशेष परीक्षा देते छात्र
  • - सोमवार से जिले के 7 सेंटर पर हुई है विशेष परीक्षा

कोविड में स्कूल न खुलने और पढ़ाई न हो पाने के कारण प्रदेश सरकार ने हायर सेकेन्ड्री और हाई स्कूल के छात्रों को जनरल प्रोमोशन देकर पास घोषित किया गया था। छात्रों के पुराने ट्रैक रिकॉर्ड के आधार पर उन्हें नंबर और प्रतिशत दिए गए थे। इस जनरल प्रोमोशन में फेल कोई भी छात्र नहीं किया गया था। फिर भी ऐसे छात्र जिनको लगता था कि वह ज्यादा नंबर ला सकते थे उनके लिए विशेष परीक्षा का विकल्प भी रखा था। यही विकल्प परीक्षा सोमवार से शुरू हुई है। ग्वालियर में 7 सेंटर पर हाई स्कूल, हायर सेकेंड्री के 605 छात्रों ने विशेष परीक्षा के लिए आवेदन किया था। पर परीक्षा में 535 ही छात्र उपस्थित हुए हैं। 70 छात्र खुद के लिए चुनी इस विशेष परीक्षा में भी शामिल नहीं हुए हैं। ऐेसे मंे अब उनकी इस साल पास होने की पात्रता भी सामाप्त हो जाएगी। अब वह फेल माने जाएंगे और उनको हाई स्कूल और हायर सेकेन्ड्री के लिए फिर से क्लास लेकर परीक्षा देनी होगी। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि इन 70 छात्रों को लेने के देने पड़ गए।

परीक्षा सेंटर के बाहर परीक्षार्थी की तलाशी लेते शिक्षक, साथ ही कोविड गाइडलाइन का पालन न करने वालों को प्रवेश नहीं दिया गया
परीक्षा सेंटर के बाहर परीक्षार्थी की तलाशी लेते शिक्षक, साथ ही कोविड गाइडलाइन का पालन न करने वालों को प्रवेश नहीं दिया गया

जिन्होंने परीक्षा नहीं दी उनका क्या रहेगा भविष्य
- ग्वालियर शहर के कंपू पर स्थित शासकीय पदमा कन्या विद्यालय पर सोमवार को 10वीं और 12वीं की विशेष परीक्षा कराने के लिए परीक्षा केंद्र चिन्हित किया गया था जहां 10वीं के 76 बच्चों ने परीक्षा का विकल्प चुना था, लेकिन परीक्षा देने आए सिर्फ 58 छात्र, इसी तरह 12वीं क्लास के 31 छात्रों को परीक्षा देनी थी, लेकिन 27 छात्रों ने परीक्षा दी है। इसी तरह कुल 7 सेंटर पर 605 कुल छात्रों मंे से 70 ने परीक्षा नहीं दी है। पास तो पहले हो चुके थे। परीक्षा न देकर पूरी साल दाव पर लगा दी। ऐसे छात्रों को अब वापस यह क्लास पढ़ना पड़ेगी और परीक्षा देनी होगी।
इन 7 केंद्रों पर हो रही है परीक्षा
- शासकीय पद्मा विद्यालय कम्पू, एमएलबी कॉलेज अखिलेश्वर रोड, शासकीय कन्या हाई सेकंडरी स्कूल थाठीपुर,शिक्षा नगर हाई सकूल,उत्कृष्ट विद्यालय डबरा,उत्कृष्ट भितरवार और उत्कृष्ट घाटीगांव को परीक्षा केंद्र बनाया गया। यह कक्षा 10 वीं की परीक्षा 15 सितंबर तक और कक्षा 12 वीं की परीक्षा 21 सितंबर तक होंगी। परीक्षा का समय सुबह 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक तय किया गया है इन सभी परीक्षा केंद्रों पर विद्यार्थियों को परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा देने आए सभी छात्रों को सुबह 8 बजे तक ही प्रवेश दिया जाएगा 8:00 बजे के बाद जो भी विद्यार्थी परीक्षा देने आएगा उसे परीक्षा केंद्र में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

परिणामों से ना खुश बच्चों ने चुनी थी 10वीं व 12वीं की विशेष परीक्षा
- आपको बता दें कि कोराना संक्रमण काल के चलते इस वर्ष एमपी बोर्ड के परीक्षा नहीं कराई गई थी इसलिए वैकल्पिक मूल्यांकन के आधार पर परिणाम घोषित किए गए थे। इस तरह के मूल्यांकन से ऐसे विद्यार्थी जो परीक्षा देकर अच्छे अंक प्राप्त कर सकते थे। लेकिन यह विद्यार्थी सामान्य विद्यार्थी की कैटेगिरी में आकर रहे गए थे। जो छात्र अपने परिणामों से संतुष्ट नहीं थे उनके लिए विशेष परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है। इस परीक्षा को देकर वह अपने परिणामों में सुधार कर सकेंगे। साथ ही सभी विद्यार्थी अपने अंक को बेहतर बनाने के लिए विशेष परीक्षा देने का विकल्प चुना गया था।

खबरें और भी हैं...