पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Excise Team Arrived To Raid The Camp Of Kanjars, While Confiscating The Goods, The Laborer Was Crushed By The Train, Died, The Officers Fled Leaving Them Unclaimed

दबिश देने गई आबकारी, उल्टे पांव भागी:कंजरों के डेरे पर दबिश देने पहुंची आबकारी टीम; माल जब्त कर लाते समय मजदूर की ट्रेन की चपेट में आने से मौत, भाग आए अधिकारी

ग्वालियर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हादसे के बाद ट्रैक पर पड़ी शराब केन - Dainik Bhaskar
हादसे के बाद ट्रैक पर पड़ी शराब केन
  • परिवार का आरोप सिंडिकेट के लेबर मैनेजर ने धमकी देकर बुलाया था

कंजरों के डेरे पर दबिश के बाद शराब जब्त कर वापस लौट रहा था आबकारी का अमला। तभी शराब के केन उठाकर ला रहे मजदूर को ट्रेन ने टक्कर मार दी। मजदूर की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद मजदूर को संभालने के बजाय आबकारी का अमला स्पॉट से भाग आया। घटना शनिवार शाम जलालपुर रेलवे ट्रैक की है।

मृतक शराब सिंडिकेट में मजदूरी करता था। परिजन ने सिंडिकेड के संचालक व आबकारी अमले पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उन्होंने यह भी कहा है कि सिंडिकेड के लेबर मैनेजर ने धमकी देकर काम पर बुलाया था। पुरानी छावनी पुलिस ने शव को निगरानी में लेकर जांच शुरू कर दी है।

घटना के बाद मृतक के परिजन से पूछताछ करती पुलिस, आबकारी टीम भागी
घटना के बाद मृतक के परिजन से पूछताछ करती पुलिस, आबकारी टीम भागी

शिंदे की छावनी कमल सिंह का बाग निवासी 48 वर्षीय राजेश पुत्र सोनूराम सोनी सिंडिकेट में मजदूरी करता है। सिंडिकेड के मुखिया शराब कारोबारी संजय शिवहरे हैं। शनिवार शाम को सिंडिकेट की सूचना पर आबकारी विभाग से SI मनीष द्धिवेदी व SI सपना यादव की टीम ने जलालपुर पुरानी छावनी रेलवे ट्रैक के पास कंजर के डेरे पर दबिश दी थी। वहां से जब्त शराब को उठाने के लिए सिंडिकेट में काम करने वाले राजेश सोनी को भेजा गया था। जब टीम शराब जब्त कर लौट रही थी तो राजेश दोनों हाथों में शराब की केन रखकर ट्रैक के पास चल रहा था। उस पर लोड ज्यादा था। ट्रेन आई तो उसे दिखा नहीं और ट्रेन से उसे तेज टक्कर लगी। जिससे वह दूर जाकर गिरा और मौके पर ही उसकी मौत हो गई। यह देखकर आबकारी अमले के हाथ पांव फूल गए। टीम वहां से भाग आई। सूचना मिलते ही पुरानी छावनी पुलिस मौके पर पहुंची। पहचान होते ही मृतक का भांजा मनोज भी वहां पहुंच गया। वहां पर हंगामा शुरू हो गया। जिसके बाद आबकारी का अमला भी पहुंच गया। पुरानी छावनी पुलिस मामले की जांच कर रही है।

जाना नहीं चाहते थे लेबर मैनेजर ने जबरदस्ती भेजा

मृतक के भांजे मनोज ने बताया कि राजेश काम पर जाना नहीं चाहता था। उन्होंने मना किया था साथ ही कहा था कि लॉकडाउन चल रहा है, कोई साधन नहीं मिलेगा। पर सिंडिकेट का लेबर मैनेजर हरीश शिवहरे ने धमकाया। उसने वेतन न देने की बात कही। जिस पर राजेश सोनी को मजबूरी में जाना पड़ा और उनकी मौत हो गई। इसके लिए आबकारी का अमला और सिंडिकेट के मैनेजर से लेकर संचालक तक जिम्मेदार हैं। मृतक के बारे में पता लगा है कि उसके दो बेटी एक बेटा है। बेटा राम 17 साल का है और दोनों बेटियां उससे छोटी हैं। सभी की जिम्मेदारी उस पर थी।

गैंगस्टर के भतीजे को पकड़ा, 15 पेटी शराब बरामद

हजीरा ने मुखबिर से सूचना पर गैगस्टर परमाल के भाई के घर दबिश देकर लाखों की शराब पकड़ी है। साथ ही उसके भतीजे को गिरफ्तार किया है। हजीरा थाना टीआई आलोक परिहार ने बताया कि सूचना मिली थी कि चौड़े के हनुमान में गैंगस्टर परमाल सिंह तोमर के भाई घर से अवैध शराब की बिक्री हो रही है। टीम मौके पर पहुंचाई गई। जहां परिवार ने दरवाजा नहीं खोला तो टीम ने सीढ़ी लगाकर छत से दबिश दी। अंदर से 15 पेटी बरामद हुई है। पुलिस ने शराब को जब्त कर वहां से गैंगस्टर के भतीजे लोकेन्द्र उर्फ बिट्‌टू परमार को गिरफ्तार कर लिया। तीने लोग भागने में सफल हो गए हैं।

खबरें और भी हैं...