पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महा-उपचुनाव:उपचुनाव में समाजों पर फोकस, नेताओं को भी खुद की जाति के प्रभाव वाले इलाके में भेज रहे

ग्वालियर-चंबल अंचलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रणनीति: जातिगत आधार पर प्रत्याशी तय करने के बाद अब अलग-अलग समाजों पर निगाहें

उपचुनाव में भाजपा और कांग्रेस दोनों ही प्रमुख पार्टियों ने ग्वालियर, भिंड, मुरैना, दतिया और शिवपुरी की 13 विस सीटों पर ज्यादातर प्रत्याशी जातियों के आधार पर तय किए हैं। इसके बाद अब प्रचार में भी अलग-अलग जाति के वोट बैंक पर दोनों पार्टियों की निगाहें हैं। दोनों पार्टियों का अब विधानसभा क्षेत्र में रहने वाले अलग-अलग समाजों के वोट बैंक पर फोकस है।

किसी समाज विशेष के लोगों का समर्थन लेने के लिए उनके समाज का ही नेता भेजकर बैठकें कराई जा रही हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, पार्टी के स्टार प्रचारकों और अन्य नेताओं के कार्यक्रम भी विधानसभा क्षेत्रों में उनकी जाति का वोट बैंक देखकर तय किए जा रहे हैं। इसका सीधा मतलब है कि पूरा चुनाव स्थानीय मुद्दों को छोड़कर सिर्फ जातिगत वोट बैंक को टारगेट कर लड़ा जा रहा है।

विस क्षेत्रों में मंत्री-विधायक भेजकर कराई जा रहीं उनके समाज की बैठकें

डबरा: इस सीट पर कुशवाह समाज का करीब 15 हजार वोट बैंक है। ऐसे में भाजपा ने यहां राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह और पूर्व विधायक मदन कुशवाह को भेजकर कुशवाह समाज की बैठकें कराईं। वैश्य वर्ग के 25 हजार मतदाताओं को साधने यहां 19 अक्टूबर को ही मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा ने समाज की बैठक ली।

कांग्रेस की ओर से छत्तीसगढ़ के मंत्री डॉ. शिव धारियां दो दिन पहले डबरा शहर के आसपास आदिवासी दफाई में बैठकें ले चुके हैं। पूर्व मंत्री लाखन सिंह यादव ने किटौरा और किरोल में आदिवासी समाज की बैठकें ली हैं। पूर्व सांसद रामसेवक बाबूजी और साहब सिंह गुर्जर ने गुर्जर समाज की बैठकें की हैं। दो दिन पहले ही पूर्व मंत्री बालेंदु शुक्ला ने ब्राह्मण समाज की बैठकें ली हैं।

सुमावली: भाजपा यहां कुशवाह वोटरों को साधने मंत्री भारत सिंह कुशवाह को भेज चुकी है। कुशवाह वोट यहां 33 हजार है। क्षत्रिय मतदाता 38 हजार हैं। भाजपा ने यहां दो दिन पहले पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह को भेजा था। उधर कांग्रेस राहुल भैया की सभा करा चुकी है।

भांडेर: इस सीट पर कुशवाह समाज के 13 हजार वोटर हैं। यहां कांग्रेस ने सबलगढ़ विधायक बैजनाथ कुशवाह से समाज की कई बैठकें कराई हैं। यहां यादव समाज के वोट करीब 26 हजार हैं। भाजपा की ओर से उच्च शिक्षा मंत्री मोहन सिंह यादव ग्राम उड़ीना, गोदन, चंद्रोल, सरसई में यादव समाज के लोगों के साथ बैठक कर चुके हैं। इनके अलावा बीज विकास निगम के पूर्व अध्यक्ष महेंद्र सिंह यादव तीन महीने से भांडेर में ही हैं।

पंचायत एवं ग्रामीण राज्य मंत्री रामखिलावन पटेल ग्राम तरगुवां, कुलरिया, वेंदा, खिरिया सहाब, बेदारी, पट्टी तातारपुर, पथर्या ततारपुर और बसवाह में कुर्मी समाज की बैठक ले चुके हैं। यहां समाज के 6 हजार वोटर हैं। दांगी समाज के 15 हजार वोटर को साधने के लिए भाजपा के विस सह प्रभारी माधव सिंह दांगी दो महीने से क्षेत्र में ही हैं। पूर्व विधायक हजारीलाल दांगी भी बैठकें ले चुके हैं।

मेहगांव: मेहगांव और गोरमी में भाजपा के समर्थन में वैश्य समाज के मतदाताओं को साधने के लिए मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा और पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने बैठकें ली। वहीं कांग्रेस की ओर से पूर्व मंत्री डॉ. गोविंद सिंह क्षत्रिय बाहुल्य गांवों में बैठकें कर रहे हैं। कांग्रेस की ओर से अजय सिंह राहुल भैया भी यहां सभा में आ चुके हैं। बता दें कि इस सीट पर क्षत्रिय वोट करीब 40 हजार हैं।

पोहरी: पोहरी सीट पर धाकड़ वोट बैंक 40 हजार के करीब है। यहां मुख्यमंत्री के बेटे कार्तिकेय चौहान बैराड़ में सभा ले चुके हैं। इसके अलावा ब्राह्मण वोट 18 हजार हैं। इन्हें साधने के लिए गृह मंत्री डाॅ. नरोत्तम मिश्रा के अलावा उनके बेटे डॉ. सुकर्ण मिश्रा भी आ चुके हैं। रावत समाज के 10 हजार मतदाता होने के कारण यहां विजयपुर के पूर्व विधायक रामनिवास रावत भी कांग्रेस के समर्थन में बैठकें ले चुके हैं।

दिमनी: यहां क्षत्रिय वोटर 62 हजार हैं। ऐसे में भाजपा की ओर से केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर सक्रिय हैं। कांग्रेस भी अजय सिंह राहुल की सभा करा चुकी है। ब्राह्मण वोट बैंक 35 हजार है। यहां भाजपा की ओर से प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा आ चुके हैं। कांग्रेस का प्रत्याशी ही ब्राह्मण है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें