• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Gita Was Distributed In The City And The Message Of Karma Was Given In The Temples, Special Makeup Was Done For Lord Chakradhar

गीता जयंती और माेक्षदा एकादशी:शहर में गीता बांटीं और मंदिरों में दिया कर्म का संदेश, भगवान चक्रधर का किया विशेष शृंगार

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के मंदिराें में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। - Dainik Bhaskar
शहर के मंदिराें में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।
  • बजरंग दल ने सामूहिक हनुमान चालीसा पाठ किया

गीता जयंती और माेक्षदा एकादशी पर शहर के मंदिराें में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस अवसर पर गीता का वितरण भी किया गया। सनातन धर्म मंदिर में गीता का संदेश प्रवचन के माध्यम से दिया गया। वहीं सनातन धर्म मंदिर में भगवान चक्रधर का विशेष श्रृंगार किया गया। उधर, इस्कॉन द्वारा गीता का वितरण किया गया। बजरंग दल ने कार्यक्रम आयोजित किया।

बजरंग दल द्वारा नगर के 14 प्रखंड में कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें सभी बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने सामूहिक हनुमान चालीसा का पाठ किया। मुख्य वक्ता प्रांत मंत्री पप्पू वर्मा ने कहा कि कार्यकर्ताओं को अनुशासन के साथ साथ राष्ट्र प्रेम का पाठ एवं धर्म का ज्ञान और सनातन संस्कृति से संबद्ध इतिहास और विकास की जानकारी होना चाहिए।

समय आ गया है कि हम एक होकर पूरे विश्व को एक बार फिर से अलौकिक शक्ति का अहसास कराएं और भारत माता को फिर से विश्व गुरु बनाए। गीता हमें केवल ‘जो होता है वह होने दो, क्या लेकर आए थे और क्या लेकर जाओगे’ का ही ज्ञान नहीं देती, बल्कि शौर्य, पराक्रम और विजय की भी याद दिलाती है। यह कार्यक्रम पंचमुखी हनुमान मंदिर,बीजासेन माता का मंदिर, भेलसे वाली माता मंदिर,बिजली घर हनुमान मंदिर, राठौर पैलेस, बंशी कि बगिया, गेंडे वाली सडक कमेटी हॉल में आयोजित किया गया।

इस्कॉन ने मेडिकल कॉलेज में किया कार्यक्रम, सनातन धर्म मंदिर में गीता के महत्व पर प्रकाश डाला गया

गीता जयंती पर इस्कॉन ग्वालियर की ओर से जहां लोगों को गीता बांटी गईं,वहीं गजराराजा मेडिकल काॅलेज में कार्यक्रम कर मेडिकल छात्रों को गीता का ज्ञान दिया। इस्कॉन ग्वालियर के महेंद्र के अनुसार, मेडिकल काॅलेज में हुए कार्यक्रम में जहां छात्रों ने करताल और मृदंग पर हरिनाम संकीतर्न किया। इस माैके पर सिंगापुर से अभिजीत और अमेरिका से आए प्रेमचंद्र ने उपस्थित लाेगाें काे गीता से जुड़े तथ्याें की जानकारी दी।

सनातन धर्म मंदिर में भगवान श्री चक्रधर का विशेष शृंगार मुख्य पुजारी आचार्य पंडित रमाकान्त द्वारा किया गया। साथ ही एकादशी व्रत महात्म्य की कथा भी भक्तों को सुनाई गई। गिर्राज अग्रवाल ने दीप प्रज्वलित कर गीता जयंती कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

इस अवसर पर संस्कृत महाविद्यालय के विद्वान आचार्य पं. बालेन्दु ने गीता के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि गीता विषम परिस्थितियों में भी सन्तुलित रहने का मार्ग प्रशस्त करती है। गीता के प्रत्येक श्लोक में गूढ़ रहस्य छिपे हुए हैं। जो कि निरन्तर अध्ययन, चिंतन, मनन एवं स्वाध्याय से ही प्रकट हो सकते हैं।

प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन गीता के कम से कम 2 श्लोक अवश्य ही पढ़ना और मनन करना चाहिए। यदि ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मन्त्र का श्रद्धा पूर्वक जप कर लिया जाय तो भी व्यक्ति का कल्याण सुनिश्चित है। गीता पाठ से हमारा तो मोक्ष होता ही है हमारे पितरों का भी मोक्ष सुनिश्चित होता है। मोक्षदा एकादशी को गीता के 11वें अध्याय का पाठ अवश्य करना चाहिए। इस अवसर पर प्रधानमंत्री महेश नीखरा, नरेंद्र मंगल, राजेश गर्ग, ब्रजेश पाठक, राधेश्याम आदि उपस्थित थे।

भगवान श्रीकृष्ण का जलािभषेक किया

अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉक्टर जयवीर भारद्वाज ने चामुंडा धाम कोटेश्वर पर भगवान श्रीकृष्ण का जलाभिषेक एवं प्याऊ का भूमि पूजन किया। डॉ. भारद्वाज ने कहा कि सनातन धर्म के महान ग्रंथों में चारों वेदों का सार श्रीमद्भागवत गीता में है गीता के 18 अध्याय से आत्मसात करने से दुखों का कष्टों का आसानी से हल निकलता है और भगवान श्री कृष्ण के बताए हुए मार्ग पर चलकर आसानी से सारे दुखों को दूर किया जा सकता है। यह जानकारी महासभा के प्रदेश प्रवक्ता फरीदा अग्रवाल ने दी।

खबरें और भी हैं...